bbc news

  • Jan 18 2020 8:22AM
Advertisement

ट्रंप की ईरान के सर्वोच्च नेता को चेतावनी- 'शब्द बड़े ध्यान से चुनें' : पाँच बड़ी ख़बरें

ट्रंप की ईरान के सर्वोच्च नेता को चेतावनी- 'शब्द बड़े ध्यान से चुनें' : पाँच बड़ी ख़बरें

डोनल्ड ट्रंप

Getty Images

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ईरान के सर्वोच्च धार्मिक नेता अयातुल्लाह अली ख़मेनेई को अपने शब्दों को लेकर 'बहुत सतर्क' रहने की चेतावनी दी है.

ट्रंप ने शुक्रवार को ट्वीट किया, "ईरान के तथाकथित 'सर्वोच्च नेता' जो हाल के दिनों में सर्वोच्च नहीं रहे, उन्होंने अमरीका और यूरोप के बारे में कुछ घटिया बातें कहीं हैं. उनकी अर्थव्यवस्था बिखर रही है, उनके अपने लोग तकलीफ़ में हैं. उन्हें अपने शब्दों को लेकर बहुत सर्तक रहना चाहिए."

https://twitter.com/realDonaldTrump/status/1218297466656829440

ट्रंप का ये ट्वीट ख़मेनेई के शुक्रवार के भाषण के बाद आया है. अपने भाषण में ख़मेनेई ने यूक्रेन का यात्री विमान 'ग़लती से' मार गिराने के लिए अपनी सेना का बचाव किया था.

उन्होंने कहा था, 'हमारे दुश्मन इस दुर्घटना से उतने ही ख़ुश थे जितने हम दुखी थे. वे ख़ुश थे कि उन्हें रेवॉल्यूशनरी गार्ड और हमारी सेनाओं पर सवाल उठाने के लिए कोई मुद्दा मिल गया.'

दुश्मन से उनका इशारा अमरीका और उनके सहयोगी देशों की ओर था जिनके साथ ईरान की तनातनी जनरल क़ासिम सुलेमानी की मौत के बाद शुरू हुई थी.

अमरीका ने ईरान की कुद्स फ़ोर्स के प्रमुख जनरल क़ासिम सुलेमानी को इराक़ में बग़दाद हवाई अड्डे के बाहर एक ड्रोन हमले में मार डाला था. इसके बाद से दोनों देशों में तनाव बढ़ गया है.

ये भी पढ़ें: ईरानी सेना के 'ग़लती से' विमान गिराने पर क्या बोले ख़मेनेई

दिल्ली पुलिस
Getty Images

दिल्ली में राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून लागू

दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल ने एक अधिसूचना जारी कर दिल्ली पुलिस आयुक्त को 19 जनवरी से 18 अप्रैल 2020 के बीच आपातकालीन स्थिति में किसी भी व्यक्ति को हिरासत में लेने का अधिकार दे दिया है.

https://twitter.com/PTI_News/status/1218232585987379201

दिल्ली के पुलिस आयुक्त को यह अधिकार राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून (एनएसए), 1980 की धारा तीन (3) के तहत दिया गया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार यह अधिसूचना 10 जनवरी को जारी की गई थी.

यह फ़ैसला ऐसे समय में आया है जब राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटिजन्स (एनआरसी) के ख़िलाफ़ लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

हालांकि, दिल्ली पुलिस का कहना है कि 'ये नियमित आदेश है और मौजूदा हालात से इसका कोई लेना-देना नहीं है.' एनएसए क़ानून के तहत किसी व्यक्ति को बिना वजह बताए हिरासत में लिया जा सकता है और अधिकतम 12 महीने तक हिरासत में रखा जा सकता है.

इस क़ानून के तहत प्रशासन और अधिकारियों को ऐसे किसी भी शख़्स को हिरासत में लेने का अधिकार है जिसे वो क़ानून-व्यवस्था और देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा समझते हों.

ये भी पढ़ें: कोर्ट ने पुलिस से कहा, 'जामा मस्जिद पाकिस्तान में नहीं है'

असम
Getty Images

असम: शांति की ओर लौटा विद्रोही संगठन

असम में प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन एनडीएफ़बी के नेता बी. सौरीगरवा के नेतृत्व वाला 'खेमा' पड़ोसी देशों के शिविरों से वापस असम लौट आया है.

बातचीत के विरोधी रहे इस धड़े ने हिंसा छोड़ने और सरकार के साथ शांति वार्ता में शामिल होने के समझौते पर दस्तख़त किये हैं.

असम के पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति मरहंता ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. महंता ने बताया कि सरकार ने इस संगठन के ख़िलाफ़ जारी अभियानों को फ़िलहाल रोक दिया है.

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा, "एनएडीएफ़बी का जो खेमा वापस लौटा है उसमें 27 अन्य कैडर भी हैं जिन्हें गुप्त जगहों पर रखा गया है. एनएडीएफ़बी के जो लोग असम लौटे हैं उनमें सौरीगरवा के अलावा संगठन के महासचिव बीआर फेरंगा और वित्त सचिव बी. दवमविलु भी शामिल हैं."

उन्होंने ये भी बताया कि संगठन के दो प्रमुख सदस्य वापस नहीं आए हैं.

वापस ना आने वालों में संगठन के मुख्य कमांडर बी. बिदाई और बी. बाठा शामिल हैं. महंता ने कहा, "हम उनसे मुख्यधारा में लौटने और शांति प्रक्रिया में हिस्सा लेने की अपील करते हैं.'

महंता ने ये नहीं बताया कि इस प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन के शिविर किस पड़ोसी देश में हैं.

ये भी पढ़ें: नागरिकता क़ानून से चिंतित असम के ये हिंदू

जेपी नड्डा
Getty Images
जेपी नड्डा

'CAA पर 10 वाक्य बोलकर दिखाएं राहुल गांधी'

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने राहुल गांधी पर आरोप लगाया है कि 'वे नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) के बारे में देश को ग़ुमराह कर रहे हैं'.

उन्होंने राहुल गांधी को सीएए के बारे में 10 वाक्य बोलने की चुनौती भी दी है.

शुक्रवार को सीएए के समर्थन में आयोजित एक कार्यक्रम में नड्डा ने कहा, "उस राहुल गांधी के बारे में क्या कहें जो सीएए पर 10 वाक्य तक नहीं बोल सकते. मैं उन्होंने सीएए के बारे में 10 वाक्य और इसके विरोध में दो वाक्य बोलने की चुनौती देता हूँ."

नड्डा ने कहा कि 'यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोग बिना पूरे मसले को समझे लोगों को ग़ुमराह करने के लिए 'ज्ञान देने' लगते हैं.'

ये भी पढ़ें: देविंदर सिंह मामले पर राहुल ने पूछा, मोदी और अमित शाह ख़ामोश क्यों

वायरस संक्रमण
Getty Images

चीन में वायरस संक्रमण, भारत की एडवाइज़री

भारत ने चीन की यात्रा पर जाने और चीन से वापस आने वाले लोगों के लिए एक ट्रेवल एडवाइज़री जारी की है.

सरकार ने ये एडवाइज़री चीन में फैले कोरोना वायरस संक्रमण की ख़बरें आने के बाद जारी की है. इसके मद्देनज़र हवाई अड्डों पर भी निगरानी रखी जा रही है और यात्रियों की स्वास्थ्य जाँच की जा रही है.

चीन के वुहान शहर में इस वायरस की चपेट में आकर दो लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग 1700 लोग इसके शिकार हो चुके हैं.

चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन के अधिकारियों का कहना है कि 'ये कोरोना वायरस का संक्रमण है. इस संक्रमण के शिकार के लोगों में आम तौर पर सर्दी-ज़ुकाम की समस्या होती है जो कई बार साँस की गंभीर समस्या में बदल जाती है.'

अभी इस वायरस और इससे होने वाली बीमारियों के बारे में बहुत ज़्यादा जानकारी नहीं है. विशेषज्ञों का कहना है कि इस सम्बन्ध में और शोध किए जाने की ज़रूरत है.

ये भी पढ़ें: ज़ीका वायरस से बचने के क्या हैं 5 उपाय

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

]]>

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement