Advertisement

bbc news

  • Mar 15 2019 7:09AM
Advertisement

मुंबई: छत्रपति शिवाजी स्टेशन के पास पुल गिरा, सेफ़्टी ऑडिट पर उठे सवाल

मुंबई: छत्रपति शिवाजी स्टेशन के पास पुल गिरा, सेफ़्टी ऑडिट पर उठे सवाल

मुंबई में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) रेलवे स्टेशन के पास एक फुटओवर ब्रिज के गिरने से कम से कम 34 लोग ज़ख़्मी हुए हैं और पांच लोगों की मौत हो गई है.

यह हादसा गुरुवार शाम को 7:30 बजे तब हुआ जब लोगों की काफ़ी भीड़ होती है. पुलिस का कहना है कि ब्रिज का एक हिस्सा गिरा है. घायलों को जीटी और संत जॉर्ज हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है.

https://twitter.com/MumbaiPolice/status/1106197431526543366

इस मामले में मुंबई पुलिस ने ट्वीट कर कहा है, 'सीएसटी के प्लेटफॉर्म नंबर एक और टाइम्स ऑफ इंडिया के दफ़्तर के पास बीटी लेन को जोड़ने वाला हिस्सा गिरा है. घायलों को हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है. गाड़ियों की आवाजाही प्रभावित हुई है.'

मुंबई
BBC

चश्मदीदों का कहना है कि गुरुवार सुबह मरम्मत का काम चल रहा था फिर भी लोग ब्रिज का इस्तेमाल कर रहे थे.

मौके पर मौजूद बीबीसी संवाददाता मयूरेश कोण्णुर का कहना है कि पुल का कुछ हिस्सा गिर गया था लेकिन पूरा पुल ही गिरा दिया गया है, हालांकि पुल का ढांचा अभी मौजूद है. वो कहते हैं कि अब ये देखना होता कि क्या इसी ढांचे पर फिर से पुल बनाया जाएगा.

मयूरेश बताते हैं कि यह ब्रिज एक तरफ से रेलवे से निकलता था और ब्रिहनमुंबई म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन की एक इमारत में जाता था. ऐसे में अब तक ये पता नहीं चल पाया है कि ये ब्रिज किसके तहत आता है और इसके रखरखाव के लिए ज़िम्मेदार कौन है.

प्रदेश के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस ने इस मामले में उच्चस्तरीय जांच के लिए आदेश दिए हैं. उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए पांच लाख रुपये के मुआवज़े की घोषणा की है साथ ही घायलों के लिए 50 हज़ार रुपये की मदद और मुफ्त इलाज की घोषणा की है.

https://twitter.com/CMOMaharashtra/status/1106235764889829376

मयूरेश कोण्णुर बताते हैं कि कुछ वक्त पहले मुंबई में एल्फिन्स्टन में पैदल पार पुल (अब इस जगह का नाम प्रभादेवी है) गिर गया था जिसमें बीस से अधिक लोगों की मौत हुई थी. इस हादसे के बाद मुख्यमंत्री ने रेलवे और बीएमसी को मुंबई के सभी पुराने पुलों के ऑडिट का आदेश दिया था.

वो बताते हैं कि इस ऑडिट रिपोर्ट में जो जानकारी आई थी उसके अनुसार छत्रपति शिवाजी स्टेशन के पास का ब्रिज दुरुस्त था. लेकिन अब इस पुल के टूटने के बाद सवाल उठने लगे हैं कि पुल सही हालत में था तो हादसा क्यों हुआ और ऑडिट रिपोर्ट में ग़लत जानकारी क्यों दी गई.

मुख्यमंत्री ने उच्चस्तरीय जांच में ये पता करने के आदेश भी दिए हैं कि ऑडिट रिपोर्ट किसने और कैसे बनाई. साथ ही उन्होंने कड़े कदम उठाने की बात भी की है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख जताते हुए ट्विटर पर लिखा है, "मेरी संवेदना पीड़ित परिवारों के साथ है और उम्मीद है कि हादसे में में घायल हुए लोग जल्द स्वस्थ होंगे. महाराष्ट्र सरकार पीड़ितों की मदद की हरसंभव कोशिश कर रही है."

https://twitter.com/narendramodi/status/1106225943176273920

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने लिखा है कि कि रेलवे के डॉक्टर और अधिकारी राहत और बचाव कार्य में बीएमसी के अधिकारियों की मदद कर रहे हैं.

https://twitter.com/PiyushGoyalOffc/status/1106221292087398402

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हादसे की ख़बर पर अफसोस जताया है और ट्विटर पर लिखा है कि उनकी संवेदना मृतकों के परिजनों के साथ हैं.

https://twitter.com/RahulGandhi/status/1106259739888009216

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि "मोदी सरकार और महाराष्ट्र सरकार के दौर में कई हादसे हुए हैं- एल्फिन्स्टन में पैदल पार पुल में भगदड़, अंधेरी में बीते साल जुलाई में पुल गिरा था. रेलवे मंत्रालय के ऑडिट के दावे बार-बार ग़लत साबित हो रहे हैं. रेलवे मंत्री को इस्तीफ़ा देना चाहिए, या फिर उन्हें बर्खास्त किया जाना चाहिए."

https://twitter.com/rssurjewala/status/1106226890367332352

समाजवादी पार्टी के नेता और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है, "मुंबई में पुल गिरने की बड़ी दुर्घटनाएं लगातार हो रहीं हैं. सरकार पुलों के सेफ़्टी ऑडिट को गंभीरता से नहीं ले रही है."

https://twitter.com/yadavakhilesh/status/1106236025741799424

मुंबई ब्रिज हादसा
AFP/Getty Images
मुंबई ब्रिज हादसा
EPA

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

]]>

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement