Advertisement

bbc news

  • Feb 11 2019 8:00AM
Advertisement

कांग्रेस में ‘जान फूंकने’ के लिए लखनऊ में प्रियंका गांधी का रोड शो

कांग्रेस में ‘जान फूंकने’ के लिए लखनऊ में प्रियंका गांधी का रोड शो

प्रियंका राहुल

Getty Images

पिछले महीने कांग्रेस पार्टी में महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी बनीं प्रियंका गांधी सोमवार को इस नई भूमिका में पहली बार लखनऊ आ रही हैं.

कांग्रेस पार्टी ने उनके स्वागत की ज़ोरदार तैयारी की है और क़रीब 15 किलोमीटर लंबा रोड शो करने जा रही है. कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पूरे शहर को प्रियंका गांधी के पोस्टरों से इस क़दर पाट दिया है, मानो वो लोकसभा चुनाव जीतने की तैयारी करने नहीं, बल्कि जीतकर आ रही हों.

यूं तो यूपी में प्रियंका गांधी को राजनीतिक भूमिका सौंपे जाने की ख़बर के बाद से ही कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं में ज़बरदस्त उत्साह है, अब यह उत्साह कार्यकर्ता अपनी नेता को भी दिखाने में कोई क़सर नहीं छोड़ना चाहते.

प्रियंका गांधी ने भी कार्यकर्ताओं को एक ऑडियो टेप जारी करके उनके उत्साह को और बढ़ा दिया है.

राहुल-प्रियंका का रोड शो

इस ऑडियो टेप में प्रियंका गांधी ने युवाओं, महिलाओं और ग़रीबों पर ख़ासतौर पर फ़ोकस किया है. इससे पहले कांग्रेस महासचिव नियुक्त होने के बाद प्रियंका ने पहला आधिकारिक बयान जारी किया था जिसमें उन्होंने यूपी और उत्तराखंड में ज़हरीली शराब से मरने वालों के प्रति संवेदना प्रकट की थी और सरकार को आड़े हाथों लिया था.

सोमवार को लखनऊ में एयरपोर्ट से कांग्रेस पार्टी के दफ़्तर तक की कोई 15 किमी की दूरी प्रियंका और राहुल रोड शो के ज़रिए तय करेंगे, ऐसा पार्टी ने तय किया है.

बीच-बीच में उनकी छोटी सभाएं भी होंगी. रविवार को इस तैयारी को लेकर पार्टी नेताओं में गंभीर मंथन हुआ और राज्य के लगभग सभी बड़े नेता उसमें मौजूद रहे. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की मौजूदगी भी ख़ास रही.

हरीश रावत का कहना था, "प्रियंका जी की मौजूदगी से यूपी में कांग्रेस को नई ताक़त मिलेगी. साल 2009 में भी लोग ये उम्मीद नहीं कर रहे थे कि हम इतनी बड़ी जीत दर्ज करेंगे, जबकि हमने 22 सीटें जीत लीं. इस बार उससे भी अच्छा प्रदर्शन करेंगे."

वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला का कहना था कि कार्यकर्ताओं की लंबे समय से हो रही मांग पूरी हुई है इसलिए लोगों में ज़बरदस्त जोश है.

प्रियंका गांधी
Getty Images

प्रियंका सेना

लखनऊ में रविवार को पार्टी कार्यालय में लंबे समय के बाद राज्यभर के कांग्रेस नेताओं की बड़ी भीड़ देखी गई जिसमें प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर के अलावा प्रमोद तिवारी, जितिन प्रसाद, अखिलेश सिंह इत्यादि मौजूद रहे.

प्रियंका गांधी के साथ राहुल गांधी और यूपी के दूसरे प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी रहेंगे. प्रियंका गांधी अगले चार दिन तक पार्टी कार्यालय में कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात करेंगी और उसके बाद राज्य भर में इनके कार्यक्रम तय किए जाएंगे.

जानकारों के मुताबिक पूर्वी उत्तर प्रदेश की 42 सीटों पर प्रियंका गांधी 18 फ़रवरी से दौरा शुरू कर देंगी.

दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रियंका गांधी के समर्थन में जो पोस्टर और होर्डिंग्स लगाई हैं उनमें से तमाम ऐसे हैं जिनमें उनकी तुलना इंदिरा गांधी से की गई है.

यही नहीं, गुलाबी टी-शर्ट पहने युवाओं की एक टोली भी हमें लखनऊ में मिली जिनकी टी-शर्ट पर 'प्रियंका सेना' लिखा था. बताया जा रहा है कि ये सेना भी इंदिरा गांधी की वानर सेना की तर्ज पर बनाई गई है.

इस सेना के एक सदस्य ने हमें बताया, "हम लोगों का एक बड़ा समूह है जिसमें सैकड़ों लोग शामिल हैं. प्रियंका गांधी के स्वागत के अलावा उनके कार्यक्रमों की ज़िम्मेदारी भी हम निभा रहे हैं. गुलाबी रंग की टी-शर्ट हमने इसलिए पहनी है कि हम महिलाओं को सम्मान दिलाना चाहते हैं."

हालांकि इन लोगों का कहना है कि ख़ुद प्रियंका गांधी को इस सेना के बारे में कुछ भी पता नहीं है.

कितना फ़ायदा पहुंचाएंगी प्रियंका?

उधर प्रियंका गांधी के कार्यक्रम के चलते लखनऊ का कांग्रेस दफ्तर भी पूरा सजा दिया गया है. रंग-रोगन के साथ ही दफ़्तर में नया बोर्ड भी लगा है और आस-पास की सभी दीवारें पोस्टरों और होर्डिंग्स से पाट दी गई हैं. प्रदेश कांग्रेस के दफ़्तर में प्रियंका गांधी का एक कमरा भी तैयार किया गया है.

वरिष्ठ पत्रकार सुभाष मिश्र चुटकी लेते हैं, "हाल के दिनों ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है जब कांग्रेस का कोई यूपी प्रभारी लगातार चार दिन तक दफ़्तर में रुककर कार्यकर्ताओं से मिलेगा और चुनावी रणनीति पर चर्चा होगी."

प्रियंका गांधी
Getty Images

कांग्रेस पार्टी महागठबंधन में शामिल नहीं है इसलिए इस बात को लेकर काफ़ी आशंकाएं हैं कि अकेले लड़कर कांग्रेस पार्टी ख़ुद का फ़ायदा करेगी या फिर गठबंधन का नुक़सान करेगी.

वरिष्ठ पत्रकार शरत प्रधान कहते हैं, "नुक़सान और फ़ायदा अभी से तो तय नहीं हो सकता लेकिन बीजेपी नेताओं के बयान और टिप्पणियां ये बता रही हैं कि उनके यहां इस बात को लेकर हलचल ज़रूर है. सीटों के लिहाज़ से कितना फ़ायदा प्रियंका पूर्वी उत्तर प्रदेश में दिला पाएंगी ये तो कहना मुश्किल है लेकिन कुल मिलाकर कांग्रेस को लाभ होना तय है."

इस रोड शो के बाद प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने-अपने क्षेत्रों में ज़्यादा से ज़्यादा सीटों पर जीत की योजना पर काम करने वाले हैं.

जानकारों के मुताबिक़, इसी दौरे में उम्मीदवारों के नामों पर भी आरंभिक चर्चा हो सकती है.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

]]>

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement