Advertisement

banka

  • Sep 12 2019 7:01AM
Advertisement

बांका में खेती के लिए जल्द नयी पहल की होगी शुरुआत

 बांका : धान की खेती से पिछड़ चुके किसानों के खेतों जल्द ही नयी फसलों की हरियाली छाने वाली है.  डीएम कुंदन कुमार ने इसके लिए विशेष रणनीति अपनायी है. डीएम के निर्देश पर पंचायत स्तर पर किसानों का सर्वे का कार्य शुरु कर दिया गया है. सर्वेक्षण के दौरान सभी किसानों की जमीनों का भौतिक सत्यापन किया जा रहा है.

 
 जिसमें यह जानकारी इकट्ठा की जा रही है कि किन किसानों ने कितनी जमीन पर धान सहित अन्य खरीफ फसल लगायी है और कितना परती खेत छुट गया है. साथ ही बारिश की वजह से पूरी तरह खेती से वंचित किसानों का सर्वे किया जा रहा है. सभी कृषि समन्वयक व किसान सलाहकार सर्वेक्षण कार्य के अंतिम चरण में हैं. विभागीय जानकारी के मुताबिक 10 नवंबर तक 79536 किसानों का सर्वे किया जा चुका है. 
 
सर्वेक्षण के साथ किसानों का पूरा डाटा भी तैयार किया जा रहा है. जिसमें जमीन का रकवा, योजनाओं का लाभ सहित अन्य जानकारी सम्मिलित की जा रही है. लिहाजा, 79536 सर्वेक्षित किसानों में 61212 किसानों का डाटा पूर्ण रुप से तैयार किया जा चुका है. सर्वेक्षण कार्य जारी है. जो आगे भी कुछ सप्ताह तक चलायी जायेगी. 
 
परती खेतों में उन्नत प्रजाति की अन्य फसलों की होगी खेती 
जिले भर में किसान की संख्या तीन लाख से उपर है. जबकि मौजूदा समय में खेती से जुड़े किसान की संख्या इससे कम है.जब पूर्ण रुप से किसानों का सर्वेक्षण हो जायेगा, तो पूर्ण डाटा कृषि विभाग डीएम के समक्ष प्रस्तुत करेंगे. 
 
डीएम इस डाटा के अध्ययन के बाद अपनी रणनीति के हिसाब धान, गेहूं के अलावा जिले में अन्य फसल के संभावनाओं, मिट्टी व जलवायु के हिसाब से खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित करेंगे. जानकारी के मुताबिक इस डाटा से एक ऐतिहासिक खेती की पृष्ठभूमि तैयारी की जायेगी. धान व गेहूं की खेती तो होगी ही. किसी कारणवश अगर आगे भी वर्षापात कम हुई तो ऐसी स्थिति में अन्य फसलों का व्यापक तौर पर खेती करायी जायेगी. 
 
प्रखंडवार सर्वेक्षित किसानों की संख्या
अमरपुर   10127
बांका   7753
बाराहाट   4814
बौंसी   3337
बेलहर   10305
चांदन   6652
धोरैया   8315
कटोरिया  4357
फुल्लीडुमर 6753
रजौन   8000
शंभूगंज   9123
 
वैकल्पिक खेती के लिए फसलों के बीज का वितरण शुरू
डीएम के निर्देश पर गैर अच्छादित भूमि में वैकल्पिक खेती के लिए कुल्थी, तोरैया, अरहर सहित अन्य फसलों के बीज का वितरण शुरू है. लिहाजा, इस डाटा के तहत कोंकरी, मशरूम, मूंगफली, सब्जी सहित फल की खेती के लिए एक विशेष कार्य योजना चलायी जायेगी. सूत्र के मुताबिक जिस तरह डीएम के उन्नयन अभियान ने शिक्षा क्षेत्र में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का अलख जलाया है, ठीक इसी प्रकार खेती के क्षेत्र में भी विकसित स्वरूप लाया जायेगा.
 
डीएम के निर्देश पर पंचायत स्तर पर किसानों का सर्वे कार्य जारी है. जल्द ही सर्वेक्षण रिपोर्ट के आधार पर खेती की नयी तकनीक व रणनीति को धरातल पर उतारा जायेगा. 
सुदामा महतो, जिला कृषि पदाधिकारी, बांका
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement