Advertisement

asansol

  • Jun 7 2019 5:38AM
Advertisement

पुलिस की भूमिका से बेनाचिती बाजार के लोगों में रोष

 सोमवार की घटना को लेकर पुलिस को खड़ा किया कटघरे में

पुलिस के खिलाफ जनता के साथ व्यापारियों में रोष
 
दुर्गापुर : पुलिस की वसूली के खिलाफ आवाज उठाने वाले मछ्ली व्यापारियो पर पुलिस के अत्याचार करने का आरोप सामने आने के बाद बेनाचिती के आम लोगो के साथ साथ व्यापारियो में रोष देखा जा रहा है.
 
पुलिस बाजार में लगातार छापामारी कर रही है. इसे लोग पुलिस के बदले की कार्यवाई के रूप में देख रहे है. बीते सोमवार को मेदिनीपुर के मयना से मछली लेकर एक गाड़ी बेनाचिति बाजार जा रही थी. आरोप है कि इंडो-अमेरिकन मोड़ के समीप गाड़ी को रोककर न्यू टाउनशिप थाना की पुलिस ने रुपए की मांग की. गाड़ी चालक ने रुपए देने से इंकार करते हुए गाड़ी का गति बढ़ाकर वहां से भाग निकला.
 
इसके बाद पुलिस उस गाड़ी का पीछा करते हुए बेनाचिति बाजार में उसे पकड़ लिया.वहा पुलिसकर्मियों ने गाड़ी चालक की बेधड़क पिटाई कर दी. इससे उसके नाजुक अंग पर गंभीर चोटे आयी थी. इससे गुस्साए मछली व्यवसायियों ने भी चालक की पिटाई करने वाले पुलिस की पिटाई कर दी.
 
मछली व्यवसायियों का आरोप है कि इस घटना के बाद से ही पुलिस प्रतिदिन रात में मछली व्यवसायियों के घर-घर जाकर घटना में शामिल लोगों को पकड़ रही है और थाने ले जाकर उनकी पिटाई कर रही है. इसी के खिलाफ गुरूवार को घोष मार्केट बंद कर व्यवसायियों ने विरोध जताया. मछली के साथ साथ सब्जी बाजार भी अनिश्चित काल तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है. व्यापरियो का कहना है की घटना के बाद से पुलिस लगातार बाजार मे दबिश डाल रही है, जिससे व्यापारियों में भय बना हुआ है.
 
इलाके मे पुलिस का अत्याचार बढ़ा
 
इस घटना को लेकर बेनाचिती बाजार इलाके के लोगो का कहना है की इलाके में पुलिस का अत्याचार बढ़ा हुआ है. खास कर सीवीएफ के जवानों के अत्याचार से लोग काफी परेशान है. पुलिस के डर से लोग बेनाचिती बाजार आने से कतराने लगे है. लोगो का आरोप है की इलाके में वाहन लेकर जाते ही पुलिस विभिन्न प्रकार से तंग करना आम बात है.
 
पुलिस के लोग प्रांतिका बस स्टेंड, भीरंगी काली बाड़ी और भीरंगी मोड़ के समीप गिद्ध की तरह नजर डाले देखे जाते है. वहां से गुजरने वाले दो पहिया वाहनों को चेकिंग के नाम पर परेशान कर रुपये एठने की कोशिश में लगे रहते है. इसके कारण बाहरी इलाको से ग्राहकों का बाजार में आना दिन पर दिन कम होता जा रहा है.
 
Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement