Advertisement

asansol

  • Apr 25 2019 1:40AM

शिवसेना प्रार्थी अभिषेक ने की शिकायत चुनाव पर्यवेक्षक (सामान्य) जे मुरली से

जे मुरली ने मांगी विस्तृत रिपोर्ट पुलिस आयुक्त, जिला निर्वाचन अधिकारी

उपप्रधान जितेन्द्र पासवान पर जानलेवा हमले में अरिजीत है नामजद आरोपी
 
आसनसोल : जानलेवा हमला सहित विभिन्न आपराधिक धाराओं के तहत दर्ज आरोपी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मंच पर सम्मानित करने की लिखित शिकायत शिवसेना उम्मीदवार अभिषेक सिंह ने बुधवार को आसनसोल संसदीय क्षेत्र के चुनाव पर्यवेक्षक (साधारण)  जे मुरली से की.
 
श्री मुरली ने इस संबँद में पुलिस आयुक्त लक्ष्मी नारायण मीणा और जिला चुनाव अधिकारी सह जिलाशासक शशांक सेठी से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. उन्होंने श्री सिंह को आश्वास्त किया कि इस मामले में उचित कार्रवाई की जायेगी.
 
सनद रहे कि मंगलवार को प्रधानमंत्री श्री मोदी ने आसनसोल पोलो ग्राउंड में भाजपा उम्मीदवार सह केंद्रीय राज्यमंत्री बाबुल सुप्रिय के समर्थन में चुनावी सभा को संबोधित किया था. सभा के दौरान प्रधानमंत्री का स्वागत उन्हें फूलों की विशालकाय माला पहना कर की गई थी. उस समय ममंच पर भाजपा के कई वरीय कर्मी व नेता मौजूद थे. उनमें अरिजीत राय भी शामिल थे. वे  प्रधानमंत्री से महज एक फुट की दूरी पर खड़े थे. बीते 13 अप्रैल को अरिजीत राय के खिलाफ  तृणमूल नेता तथा बाराबनी ग्राम पंचायत के उपप्रधान जितेंद्र पासवान पर जानलेवा हमला करने की शिकायत दर्ज हुई है. इस घटना के संबंध में श्री सुपियो का कहना था कि पासवान शराब के नशे में धुत था तथा जीप से वह उनकी हत्या करना चाहता था. कर्मियों ने उसे रोक शे में धुत वह नेता जीप में आ रहा था. वह शायद मुझे धक्का मरता.
 
कार्यकर्ताओं ने उसे रोक लिया. प्रधानमंत्री और उन्हें गाली देने के बाद कर्मियों ने उसकी पिटाई की थी. उन्होंने कर्मियों क शांत कर विवाद समाप्त कराया था. इस मामले में बाराबनी थाने में मनोज चक्रवर्ती ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी. 12 नामजद आरोपियों के साथ ही अन्य डेढ़ सौ लोगों को आरोपी बनाया गया. नामजद आरोपियों में अरिजीत राय का नाम पहला है. भादवि का धारा 323/325/307/326/427  के तहत मामला दर्ज किया तथा  नामजद छह आरोपियों को गिरफ्तार कर आसनसोल जिला अदालत में पेश किया गया था.  पुलिस अरिजीत को गिरफ्तार नहीं कर पायी है..
 
इस घटना की शिकायत शिवसेना उम्मीदवार श्री सिंह द्वारा चुनाव पर्यवेक्षक (जनरल) श्री मुरली को करने पर उन्होंने आश्चर्य जताया और इसकी जांच कर उचित कार्यवाई करने को लेकर पुलिस आयुक्त श्री मीना और जिला चुनाव अधिकारी श्री सेठी को बुधवार को पत्र लिखा.
 
Advertisement

Comments

Advertisement