Advertisement

asansol

  • Feb 5 2019 3:32AM
Advertisement

आसनसोल : स्वस्थ, सुरक्षित रह कर खनन पर जोर

 आसनसोल :  इसीएल मुगमा क्षेत्र इनमोसा तथा क्षेत्रीय प्रबंधन ने मुगमा ऑफिसर्स क्लब में कंपनी स्तरीय मिशन सुमित एंड सुदेश के तहत सिस्मेटिक अपग्रेडेशन ऑफ माइनिंग एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट ऑफ एनवायरनमेंट, सेफ्टी, हेल्थ हाइजीन पर एकदिवसीय सेमिनार आयोजित किया. सीएमडी प्रेमसागर मिश्रा,  तकनीकी निदेशक (योजना व परियोजना) जयप्रकाश गुप्ता तथा  इनमोसा के महासचिव पीएन मिश्रा ने इसका उद्घाटन किया.

इनमोसा के क्षेत्रीय सचिव सुशील कुमार ने अतिथियों को सम्मानित किया.  मुगमा क्षेत्रीय महाप्रबंधक सदानन्द सुमन ने  स्वागत किया. सेमिनार में बीसीसीएल, सीसीएल, एनईसीएल सहित विभिन्न कोयला कंपनियों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया. सीएमडी श्री मिश्रा ने कहा कि साथ चलकर कुछ करने की तमन्ना हो तो  सब कुछ हो सकता है. कंपनी कर्मी जो कर रहे हैं, वही मिशन है. सपनों को क्रियान्वित  करने की जरूरत है. लक्ष्य तय कर उसे जब तक पूरा न करें, तब तक न रुकें. 

इसीएल इस वित्तीय वर्ष 50 मिलियन टन कोयला का उत्पादन कर रहा है और आगामी पांच वर्ष में उत्पादन बढ़ कर एक सौ मिलियन टन हो जायेगा. सिर्फ उत्पादन करना ही  उद्देश्य नहीं है बल्कि स्वस्थ सुरक्षित रहकर उत्पादन करना पहली प्राथमिकता है. सतत विकास की जरूरत है. मरो नहीं,  मारो नहीं, हो सके तो मृत्यु को ही समाप्त करो के संकल्प के साथ यदि सबका प्रयास हो तो सहकर्मी की जान को खतरा नहीं होगा.  कंपनी के पास काफी अच्छी टीम है और कंपनी को आगे ले जाने का जो सार्थक प्रयास है वह काफी सराहनीय है. 

वैश्विक चुनोतियों को जाने बिना वैश्विक कंपनी नहीं बन सकते. उन्होंने वेद व उपनिषद की चर्चा कई बार करते हुए कहा कि इनमोसा तथा कंपनी  के मुगमा क्षेत्र का यह संयुक्त व साहसिक प्रयास काफी सराहनीय है.

इनमोसा के महासचिव श्री मिश्रा ने कहा कि कंपनी के प्रति ईमानदार रहने की जरूरत है. कंपनी उज्ज्वल भविष्य की ओर बढ़ रही है.  कोलियरी में कार्यपद्धति में सुधार की जरूरत है क्योंकि कभी कभी माइनिंग मेन को घुटन महसूस होता है. तकनीकी निदेशक (योजना  व परियोजना) श्री गुप्ता ने कहा कि इनमोसा के सदस्य कंपनी का अभिन्न हिस्सा है
 
. इंडियन इकोनॉमी में कोल इंडिया का दस प्रतिशत हिस्सेदारी है. तीन लाख से ज्यादा लोगों को सीधे रोजगार दिया जा रहा है. विकास के लिए कोयला उत्पादन बढ़ाने की जरूरत है. वैश्विक स्तर पर तकनीकी गुणवत्ता काफी कम है. इसलिए गुणवत्ता में काफी सुधार की गुंजाइश है. 
 
मुगमा क्षेत्र को तराशने का कार्य शुरू: सीएमडी
आसनसोल :  इसीएल का मुगमा क्षेत्र कोहिनूर का हीरा है, इसे तराशने की जरूरत है. किन्हीं कारणवश अबतक इसे तराशा नहीं गया है लेकिन अब इसे तराशने का काम प्रारंभ कर दिया गया है- उपरोक्त बातें इसीएल के सीएमडी प्रेम सागर मिश्रा ने मुगमा क्षेत्र में इनमोसा द्वारा आयोजित सेमिनार के दौरान  पत्रकारों से बात करते हुए कही.
 
उन्होंने कहा कि मुगमा क्षेत्र में काफी  संभावनाएं है और उसी संभावनाओं को ध्यान में रखकर कार्य किया जा रहा है. कंपनी अग्रणी कंपनी है और काफी अच्छी स्थिति में है.  चालू वितीय वर्ष में कंपनी लाभ में रहेगी.  उन्होंने कहा कि मुगमा क्षेत्र के लिए कई एजेंसियों द्वारा दिये गये रिपोर्ट का अध्ययन किया जा रहा है. समीक्षा के बाद ही कहा जा सकता है कि भूमिगत खदान व ओसीपी में से बेहतर विकल्प कौन सा हो सकता है?
 

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement