Advertisement

araria

  • Jun 27 2019 6:20AM
Advertisement

स्वास्थ्य उप केंद्रों को नोडल अधिकारी बनायेंगे समृद्ध

 अररिया : बुधवार को समाहरणालय के आत्मन हॉल में आयोजित बैठक में डीडीसी इनामुल हक अंसारी ने जिले में संचालित स्वास्थ्य योजनाओं की समीक्षा की. इसी क्रम में तय पाया कि सभी स्वास्थ्य उप केंद्रों में स्वास्थ्य सेवा को बेहतर करने का प्रयास किया जाये. एचएससी स्तर पर स्वास्थ्य कार्यक्रमों के अनुश्रवण के लिए नोडल पदाधिकारी नामित किये जायें. 

 
तय पाया कि प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, स्वास्थ्य प्रबंधक,बीसीएम के साथ साथ सहयोगी संस्था के प्रतिनिधियों को नोडल अधिकारी बनाया जायेगा. प्रत्येक नोडल अधिकारी औसतन पांच स्वास्थ्य उप केंद्र की जिम्मेदारी लेंगे. 
 
बैठक में बताया गया कि जिले में कार्यरत एचएससी की संख्या 221 है. बैठक की जानकारी देते हुए जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम रेहान अशरफ ने बताया कि भारत सरकार द्वारा जिले को देश के 117 आकांक्षी जिलों में शामिल किया है. इसी के तहत नीति आयोग के निर्देश के आलोक में संस्थागत प्रसव, टीकाकरण, परिवार नियोजन, टीबी व कालाजार उन्मुलन कार्यक्रमों में सुधार का प्रयास चल रहा है.
 
 बैठक में दी गयी जानकारी के मुताबिक संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने व अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों के प्रति आम लोगों को जागरुक करने के लिए प्रखंड स्तर पर जन पतिनिधियों के साथ बैठक करने का नया प्रयोग शुरू किया गया है.  प्रयास सफल होता दिख रहा है. जन प्रतिनिधि हर संभव सहयोग का आश्वासन दे रहे हैं. बताया गया कि डीडीसी ने 24 जून से शुरू हुए दस्त नियंत्रण पखवाड़ा को बेहतर ढंग से मनाने का निर्देश दिया. 
 
बैठक में प्रभारी सीएस डा एमपी गुप्ता, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा केके कश्यप, संचारी रोग पदाधिकारी डा एपी सिंह, वीबीडीओ डा अजय कुमार सिंह, पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, स्वास्थ्य प्रबंधक, अस्पताल प्रबंधक के अलावा डब्लूएचओ के डा प्रणीत, डा संकल्प, पीरामल फाउंडेशन के परिमल झा, केयर के देवाशीष, युनिसेफ के मुश्ताक आजम आदि शामिल हुए.
 
Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement