Advertisement

araria

  • Jul 17 2019 8:31PM
Advertisement

बिहार में बाढ़ से त्राहिमाम : खतरे के निशान से ऊपर महानंदा, अपने घरों तक नहीं जा पा रहे हैं बाढ़ पीड़ित

बिहार में बाढ़ से त्राहिमाम : खतरे के निशान से ऊपर महानंदा, अपने घरों तक नहीं जा पा रहे हैं बाढ़ पीड़ित
अररिया के पलासी प्रखंड के प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क धुरगांव में बने पुल के दोनों हिस्से बाढ़ में कट गये.

भागलपुर : बिहार के कोसी-सीमांचल में बाढ़ से त्राहिमाम की स्थिति अब भी बनी हुई है. कोसी नदी की मुख्य धारा स्थिर है, लेकिन महानंदा व अन्य सहायक नदियां उफान पर हैं. निचले इलाके में पानी का आना जारी है. बाढ़ पीड़ित टूटी सड़क व लबालब पानी भरे होने के कारण अपने घर तक नहीं जा पा रहे हैं. बुधवार को डूबने से पूर्णिया में चार, अररिया में दो लोगों की मौत हो गयी.

पूर्णिया जिले के बायसी अनुमंडल में बाढ़ से त्राहिमाम की स्थिति है. खतरे के निशान से ऊपर बह रही महानंदा फिलहाल स्थिर है, मगर परमान में उफान से संकट अब भी बरकरार है. परमान के तेवर तल्ख रहने के कारण डगरुआ व आसपास के प्रखंडों में नए इलाकों में पानी फैल रहा है. बुधवार को जिले के डगरुआ में दो और रुपौली में दो-दो लोगों की मौत डूबने से हो गयी. महानंदा व परमान का जलस्तर लाल निशान को पार कर बह रहा है.

सुपौल के त्रिवेणीगंज में आखिरकार नदी में जलस्तर के वृद्धि होने व पानी के दबाव से जद्दोजहद करते एक बड़ी आबादी को मुख्यालय क्षेत्र से जोड़ने वाली मचहा सड़क मार्ग में चिलौनी नदी पर बना डायवर्सन बुधवार की सुबह ध्वस्त होकर बह गया. मंगलवार से ही नदी में पानी बढ़ने से डायवर्सन में कई जगहों से कटाव जारी था, जो ध्वस्त होने के कगार पर था. उक्त सड़क मार्ग में चिलौनी नदी पर बने डायवर्सन के ध्वस्त होने के साथ ही एक बड़ी आबादी जिसमें प्रखंड क्षेत्र के मचहा, कुशहा, मयूरवा गांव समेत मधेपुरा जिला के सीमावर्ती गांव लाही, बरियाही, गड़हा, बथान परसा आदि गांवों के एक बड़ी आबादी का प्रखंड मुख्यालय स्थित बाजार क्षेत्र तक आने का इस सड़क मार्ग से संपर्क भंग हो गया था. निर्मली नगर के वार्ड नंबर 01, 02 व 12 पूरी तरीके से जलमग्न हो चुका है.

बाढ़ के बाद अब ग्रामीण क्षेत्र के ग्रामीणों का सड़क संपर्क भंग
अररिया के सिमराहा सहित जिले के अन्य हिस्सों में कई मुख्य व ग्रामीण सड़क क्षतिग्रस्त हो गयी है. इनमें कई सड़क ऐसी हैं, जिसका कोई अता-पता भी नहीं है. कई पुल -पुलिया, कलवर्ट बाढ़ के सैलाब में बह गये. कई सड़क पांच सौ मीटर से अधिक कई जगहों पर कट गयी हैं. मुड़बल्ला-खबासपुर पथ, खवासपुर-अमहरा भाया फारबिसगंज पथ, सिमराहा से मुसहरी पथ, मानिकपुर हलहलिया भाया तिरसकुंड पथ, अमहरा कामता पथ, मिर्जापुर, लक्ष्मीपुर, परवाहा सहित अन्य गांवों का सड़क कट गयी है. फारबिसगंज प्रखंड के पूर्वी भाग के खवासपूर, रमई, घोड़ाघाट, गुरर्म्ही, पुरंदाहा, तिरसकुंड, मधुरा, बलुआ हलहलिया, देपुरा केवलासी, कमता सहित कई ऐसे गांव हैं, जहां सिर्फ नाव ही आवागमन का एक मात्र साधन बना हुआ है.

इधर, नरपतगंज प्रखंड क्षेत्र की पोसदाहा पंचायत के मिर्जापुर गांव में मंगलवार रात बाढ़ के पानी में डूबने से एक 55 वर्षीय पोसदाहा पंचायत के मिर्जापुर गांव की रहने वाली सियावती देवी पति नारायण यादव (55) की मौत हो गयी. पलासी थाना क्षेत्र की चहटपुर पंचायत के पलासी गांव में बाढ़ के पानी में डूबने से बुधवार को मो कफिल के 35 वर्षीय पुत्र मो मंसूर की मौत हो गयी. वह अपने घर के पास से पानी पार कर रहा था.

मजरख पंचायत के डेढ़ दर्जन परिवारों के घर नदी में समाये
सिकटी (अररिया) प्रखंड के मजरख पंचायत के कॉलोनी टोला खुटहरा के वार्ड 7 व 8 के करीब सोलह परिवारों के घर बकरा नदी के कटाव में विलीन हो गये. ये सभी परिवार विस्थापित होकर सड़क पर शरण लिये हुए हैं. बीडीओ ने बताया कि विस्थापित परिवारों की स्थिति तथा उनकी समस्या को तत्काल सुलझाने की दिशा में प्रयास किया जायेगा.

पलासी के लोगों का प्रखंड मुख्यालय से संपर्क भंग
पलासी प्रखंड की एक दर्जन से ज्यादा सड़क व कल्वर्ट बह गये. सड़क कट जाने लोगों का संपर्क प्रखंड मुख्यालय से टूट गया है. प्रखंड के मेहरो चौक से धर्मगंज मार्ग पर तीन जगहों पर सड़क कट जाने से लोग जान जोखिम में डालकर डायसर्वन पार करते हैं. कनखुदिया से बरदबट्टा, मियापुर जाने वाले मार्ग पर गंगझाली गांव के समीप दो जगह सड़क कट गयी है. प्रखंड के सोहन्द्रर से बुद्धि जाने वाले मार्ग पर भी सड़क कट गयी है. किशनगंज जिले के भेरियाडंगी डायवर्सन क्षतिग्रस्त हो गया था. डायवर्सन की मरम्मती करने के बाद भारी वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दिया गया है.

Advertisement

Comments

Advertisement

Other Story

Advertisement