Advertisement

anya khel

  • Aug 19 2019 6:37PM
Advertisement

पहले ट्रायल में ही पिछड़ गया भारत का 'उसैन बोल्‍ट' !

पहले ट्रायल में ही पिछड़ गया भारत का 'उसैन बोल्‍ट' !
twitter photo

नयी दिल्‍ली :  सोशल मीडिया के माध्यम से सुर्खियां बटोरने वाले मध्य प्रदेश के धावक रामेश्वर गुर्जर अपने पहले ही ट्रायल में पिछड़ गये. रामेश्वर ने सोमवार को भोपाल के टीटी नगर स्‍टेडियम में अपना पहला ट्रायल दिया. हालांकि साई और राज्‍य सरकार के कोचों की मौजूदगी में गुर्जर ने वैसा प्रदर्शन नहीं कर पाये , जिसके लिए वो सोशल मीडिया पर मशहूर हुए थे और लोग उन्‍हें भारत का उसैन बोल्‍ट के रूप में देख रहे थे.

 

गुर्जर के ट्रायल का वीडियो खुद केंद्रीय खेल मंत्री कीरेन रीजीजू ने शेयर किया और बताया कि 19 साल का युवा गुर्जर अपने पहले ट्रायल में अच्‍छा प्रदर्शन नहीं दिखा पाया. रीजीजू ने ट्वीट किया, 'रामेश्वर गुर्जर का ट्रायल टीटी नगर स्टेडियम में आयोजित हुआ, जहां साई और राज्य सरकार के कोच मौजूद थे. रामेश्वर वी‍डियो में सबसे बाईं ओर (लेन 9) में दौड़ रहे हैं. सुर्खियों में आने के चलते उन पर प्रदर्शन का दबाव इतना था कि वह अच्छा परफॉर्मेंस नहीं दे पाये. हम उन्हें पर्याप्त समय और ट्रेनिंग देंगे.

गौरतलब हो गुर्जर तब सुर्खियों में आये जब मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो ट्वीट किया था और खेल मंत्री को टैग किया था. चौहान के ट्वीट पर खेल मंत्री कीरेन रीजीजू ने भी दिलचस्‍पी दिखाते हुए मदद का आश्वासन दिया और गुर्जर ने भेजने के लिए कहा. इसके बाद तो 19 साल के गुर्जर सोशल मीडिया पर छा गये और लोग उन्‍हें भारत का उसैन बोल्‍ट बताने लगे.

दरअसल जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें गुर्जर 100 मीटर की दौड़ नंगे पांव दौड़ते हुए 11 सेकेंड में पूरी करते हुए दिख रहे हैं. गुर्जर ने मीडिया से बात की और कहा, उम्मीद जतायी कि अगर उन्हें सही प्रशिक्षण मिला तो वह जमैका के स्टार घावक उसैन बोल्ट के रिकार्ड को तोड़ देंगे. वह मध्‍य प्रदेश के शिवपुरी जिले के नरवार गांव के किसान परिवार से आते हैं. उनके वीडियो को देखने के बाद राज्य के खेल मंत्री जीतू पटवारी ने उन्हें भोपाल बुलाया था.

गुर्जर ने शनिवार को भोपाल में मंत्री से मुलाकात की. इस मुलाकात के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा, उसेन बोल्ट ने रिकार्ड 9.58 सेकेंड में 100 मीटर की दौड़ को पूरा किया था. मुझे उम्मीद है कि सुविधाएं और उचित प्रशिक्षण मिलने के बाद मैं उस रिकार्ड को तोड़ दूंगा.

गुर्जर ने कहा कि वह सेना से जुड़ने के लिए पिछले छह महीने से 100 मीटर की दौड़ का अभ्यास कर रहे हैं, लेकिन लंबाई कम होने के कारण उनका चयन नहीं हुआ. उन्होंने कहा, पहले मैं 100 मीटर की दौड़ को 12 सेकेंड से अधिक समय में पूरा करता था, लेकिन छह महीने के अभ्यास के बाद मैं इसे 11 सेकेंड में पूरा कर पा रहा हूं.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement