Advertisement

Auto sector

  • Jun 6 2018 6:17PM
Advertisement

Ferrari 250 GTO बनी दुनिया की सबसे महंगी कार, कीमत होश उड़ानेवाली

Ferrari 250 GTO बनी दुनिया की सबसे महंगी कार, कीमत होश उड़ानेवाली

नयी दिल्ली : 1963 मॉडल की एक Ferrari 250 GTO दुनिया की सबसे महंगी कार बन गयी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक बिजनेसमैन ने इस कार को बोली लगाकर 70 मिलियन डॉलर, यानी लगभग 455 करोड़ रुपये में खरीद लिया है. इस कार का चेसिस नंबर 4153 GT है.

 

एक अमेरिकी ऑटो ब्लॉग के मुताबिक, साल 1963 में बनी Ferrari 250 GTO को अमेरिकी बिजनेसमैन डेविड मैकनेल ने खरीदा है. डेविड, कार एसेसरीज फर्म वेदरटेक के चीफ एक्जीक्यूटिव हैं और यह रेयर फरारी कलेक्शन के लिए मशहूर हैं.

हॉली ग्रेल मॉडल से भी जानी जाने वाली 250 GTO में 3 लीटर V12 इंजन मौजूद है, जो 300 bhp का पावर जेनरेट करता है. जब इसे 1963 में लांच किया गया था, तब इसकी कीमत अमेरिका में 18,000 डॉलर रखी गयी थी. मालूम हो कि 1963 में ही आयी Ford Mustang की कीमत 2,368 डॉलर रुपये रखी गयी थी.

अपने निर्माण के एक साल बाद हॉली ग्रेल ने मशहूर मोटर कार रेस 'टूर डी फ्रांस' भी जीता था. मालूम हो कि इस रेयर फरारी के 1962 से लेकर 1964 तक कुल 36 मॉडल बने थे, जिनमें से यह 1963 का मॉडल है.

ऑटो ब्लॉग के मुताबिक यह कीमत पुराने रिकॉर्ड के मुकाबले दोगुनी है. पुराने रिकॉर्ड की बात करें, तो कैलिफोर्निया में एक नीलामी के दौरान 2014 में एक 250 GTO को 38 मिलियन डॉलर, यानी लगभग 254 करोड़ रुपये में खरीदा गया था.

यहां जानना गौरतलब है कि फेरारी कार कलेक्टर्स को सबसे ज्यादा आकर्षित करती है. ऑटोकार के मुताबिक, अब तक सबसे महंगी कीमतों में बिकी टॉप 10 कारों में से 7 कारें इस इटालियन कार मेकर कंपनी की ही हैं और उनमें से तीन 250 GTO माॅडल हैं.

विशेषज्ञों की मानें, तो विंटेज कारें निवेश का भी बेहतर विकल्प हैं. समय के साथ विंटेज कार की कीमत में बढ़ोतरी तो होती ही है, इसके साथ ही आप शानदार ड्राइव का भी मजा ले सकते हैं.

Advertisement

Comments

Advertisement
Advertisement