कोरोना वायरस: हजार से ज्यादा लोगों की मौत से दहशत, चीन जलाएगा 84 हजार करोड़ के नोट!

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
कोरोना वायरस से अभी तक पूरी दुनिया में 71 हजार से जायदा लोग संक्रमित हो चुके हैं. तो वहीं दूसरी तरफ इस वायरस से मरने वालों की संख्या भी 17 सौ से ज्यादा पहुंच चुकी है. इसमें से 1770 लोग तो केवल चीन के ही हैं. वहीं, अब चीन के सामने एक बड़ी समस्या आ चुकी है. वो है इस वायरस से संक्रमित हजारों करोड़ों की करेंसी को नष्ट करने की.अब चीन की सरकार जुटी है संक्रमित लोगों के हाथों से होते हुए बाजार में फैले संक्रमित नोट को ठीक करने की. चीन ने बीते कुछ दिनों में लाखों करोड़ों के नोट बदल दिए.
पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने कागज से बने संक्रमित नोटों को नष्ट करने का आदेश दिया है. हालांकि, अभी तक यह बात साफ नहीं हो पाई है कि चीन का सेंट्रल बैंक कितनी राशि के नोटों को नष्ट करेगी. एक रिपोर्ट के मुताबिक, सेंट्रल बैंक ने 17 जनवरी से अब तक देश भर में 600 बिलियन युआन यानी करीब 6.11 लाख करोड़ रुपये के नए नोट पूरे देश में जारी किए हैं.
इनमें से 4 बिलियन युआन यानी करीब 28,581 करोड़ रुपये के नए नोट तो सिर्फ वुहान जारी किए गए हैं. अनुमान लगाया जा रहा है कि अगर ऐसा होता है तो करीब 84 हजार करोड़ के नोट आग के हवाले कर दिया जाएगा या किसी अन्य प्रकार से नष्ट होगा. सेंट्रल बैंक के मुताबिक, पहले से बाजार में चल रहे कागज के नोट नष्ट करने होंगे, जबकि, जनवरी के बाद से बाजार में भेजे गए नोटों को जमा करके क्वारंटीन किया जाएगा,
इसके लिए नोट की अल्ट्रवायलेट किरणों से सफाई होगी. उन्हें 14 दिनों तक क्वारंटीन में रखा जाएगा. इसके बाद बाजार में भेजा जाएगा. कोरोना खतरे के संक्रमण के मद्देनजर चीन की सरकार ने करेंसी को अस्थाई तौर पर वेयरहाउस में बंद कर दिया है, ताकि नोटों के लेन-देन से वायरस लोगों में न फैले.
पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के वाइस-गवर्नर फैन यीफेई के मुताबिक, देशभर में कैश की सप्लाई को जारी रखा जाएगा. बैंकों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वे ग्राहकों को नोट सैनिटाइज करके ही दें. लोगों को ऑनलाइन बैंकिंग, ई-शॉपिंग और ऑनलाइन पेमेंट सर्विस इस्तेमाल करने की सलाह दी जा रही है.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें