भारत की सख्ती से डरे इमरान, जिहाद के लिए PoK के बाशिंदों को LoC क्रॉस नहीं करने की दी चेतावनी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

इस्लामाबाद/नयी दिल्ली : अंतरराष्ट्रीय संबंधों को लेकर बचकाना हरकत, संयुक्त राष्ट्र महासभा में भड़काऊ भाषण और नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार कर जिहाद छेड़ने के लिए उकसाये जाने के खिलाफ भारत की ओर से सख्ती दिखाने के एक दिन बाद ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने होश लौट आया है. उन्होंने शनिवार को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के बाशिंदों से कहा है कि वे कश्मीर के लोगों को मानवीय सहायता (कथित जिहाद) पहुंचाने के लिए नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार नहीं जाएं.

‘द डॉन' की खबर के अनुसार, जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के आह्वान पर शुक्रवार को पीओके के विभिन्न हिस्सों से हजारों की संख्या में लोगों ने मुजफ्फराबाद तक मोटरसाइकिल एवं अन्य गाड़ियों की रैलियां निकाली. इस घटनाक्रम के एक दिन बाद खान ने पीओके के बाशिंदों को यह चेतावनी दी है. खान ने ट्वीट कर कहा कि मैं कश्मीरियों का गुस्सा समझ सकता हूं, जो जम्मू-कश्मीर में कश्मीरियों को देख कर व्यथित हैं. जो कोई भी कश्मीरी संघर्ष के लिए मानवीय सहायता या समर्थन मुहैया करने के वास्ते एलओसी पार करेगा, वह भारतीय विमर्श को फायदा पहुंचायेगा.

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने के भारत सरकार के पांच अगस्त के फैसले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है. पाकिस्तान ने भारत के साथ राजनयिक संबंध कमतर कर दिये और भारतीय उच्चायुक्त को निष्कासित कर दिया. पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने का भी प्रयास कर रहा है. हालांकि, भारत ने बार-बार कहा है कि यह (अनुच्छेद 370) उसका आंतरिक विषय है. पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पहले संबोधन में खान ने कश्मीर मुद्दा उठाया था और कश्मीर से पाबंदियां हटाने तथा राजनीतिक कैदियों को रिहा करने की मांग की थी.

गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में भड़काऊ भाषण दिये जाने और पाकिस्तानियों को जिहाद के लिए नियंत्रण रेखा (एलओसी) की ओर कूच किये जाने को लेकर उकसाये जाने के मामले पर भारत ने शुक्रवार को कड़ा ऐतराज जाहिर किया. शुक्रवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की ओर से पिछले दिनों अपने अवाम को भारत के खिलाफ जिहाद छेड़ने की खातिर एलओसी की तरफ कूच किये जाने वाले बयान पर कहा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा में भड़काऊ और गैर-जिम्मेदाराना बयान देकर अपना असली चेहरा दिखा दिया है.

पत्रकारों से बातचीत के दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि जहां तक मैं समझता कि उन्हें अंतरराष्ट्रीय संबंधों को निबाहना आता ही नहीं है. उन्होंने कहा कि यह बहुत की गंभीर विषय है कि उन्होंने खुले तौर पर भारत के खिलाफ जिहाद छेड़ने अपील की है, जो सामान्य बात नहीं है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें