मोतियाबिंद का इलाज ऑपरेशन ही है

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

मेरे बेटे की उम्र 5 वर्ष है. चार महीनों से उसे पेशाब के रास्ते में दर्द होता है. बूंद-बूंद करके दिन भर पेशाब होता है. इलाज भी कराया मगर ठीक नहीं हुआ. हमें होमियोपैथी में उपाय बताएं.

मंजू देवी, दुमका

आप अपने बच्चे को Rhus Aromata 30 शक्ति की दवा 4 बूंद रोजाना सुबह-रात तीन महीनों तक दें. दवा खाते ही राहत मिलेगी.

मेरी उम्र 52 वर्ष है. आंखों से धुंधला दिखाई देता है. जांच में मोतियाबिंद निकला. क्या होमियोपैथी से पूर्ण इलाज संभव है ?

श्याम रजक, फुलवारीशरीफ

मोतियाबिंद का इलाज सिर्फ ऑपरेशन ही है. लेंस बदलवाएं. किसी भी दवा से यह ठीक नहीं हो सकता है. किसी नेत्र चिकित्सक से दिखाएं.

मेरे पति की उम्र 40 वर्ष है. सोते समय वे तेज खरार्टा लेते हैं, जिससे पूरे परिवार के लोग परेशान हैं. क्या यह गंभीर बीमारी है?

सुनैना देवी, मोतिहारी

कभी-कभी यह बीमारी गंभीर भी हो जाती है. मगर ऐसी स्थिति नहीं आयेगी. आप उनको डढकवट 200 शक्ति की दवा रोज सुबह 4 बूंद तीन महीनों तक खिलाएं.

मेरी उम्र 32 वर्ष है. मेरे गरदन की मांसपेशिया अकड़ गयी हैं, जिससे उसे घुमाने में मुश्किल होती है. यह समस्या तीन वर्षो से है. दर्द अब रीढ़ की हड्डियों तक जा पहुंचा है. होमियोपैथी में इलाज संभव है ?

अजीत शर्मा, बेतिया

स्थिति काफी गंभीर हो चुकी है. इसलिए इसमें कम-से-कम छह महीनों तक दवा का सेवन करना पड़ेगा. आप रळफउठकठए 30 शक्ति की दवा रोजाना सुबह 4 बूंद दो महीनों तक लें. उसके बाद यही दवा 200 शक्ति में तीन महीनों तक लें. हर महीने पहले से बेहतर महसूस करेंगे.

पिताजी की उम्र 65 वर्ष है. डॉक्टरों ने जीभ का कैंसर बताया है. जीभ पर बड़ा घाव भी है, जिससे खून निकलता है. क्या होमियोपैथी में कोई निदान है ?

राकेश शर्मा, धनबाद

पूर्ण रूप से इस रोग को ठीक करना संभव नहीं लगता है. उनकी तकलीफ को काफी हद तक दूर किया जा सकता है. यानी खून आना एवं दर्द होना कम हो जायेगा. उन्हें रएटढएफश्कववठ ळएउळडफवट 30 शक्ति की दवा रोज सुबह और रात 4-4 बूंद दें. साथ में ¬अछकवट अढअफकठए 200 शक्ति की दवा सप्ताह में एक बार दें.

प्रो (डॉ) एस चंद्रा

एमबीबीएस (पैट) एमडी (होमियो) चेयरमैन, बिहार राज्य होमियोपैथी चिकित्सा बोर्ड, पटना

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें