1. home Home
  2. national
  3. omicron variant of coronavirus patient told experience know test and treatment prt

ओमिक्रॉन के लक्षण: 'शरीर में दर्द और बुखार' Omicron वेरिएंट से पीड़ित मरीज ने बताया अपना हाल

ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित होने के बाद पीड़ित के शरीर में दर्द होने लगा. इसके अलावा उन्हे ठंड लगने लगा साथ ही बुखार भी आ गया. उन्होंने कहा कि इसके अलावा उन्हें और कोई तकलीफ नहीं हुई.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Omicron in India
Omicron in India
pti

दो सफ्ताह के अंदर दुनिया के 38 देशों में कोरोना का ओमिक्रॉन वैरिएंट (Omicron Variant) फैल चुका है. ओमिक्रॉन वेरिएंट कितना प्रभावी है इसको लेकर एक्सपर्ट अभी जांच कर ही रहे है. साफ शब्दों में कहा जाए तो वैज्ञानिकों को अभी तक इस वेरिएंट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है. हालांकि भारत में ओमिक्रॉन से संक्रमित एक डॉक्टर ने अपना हाल बताया है. संक्रमति डॉक्टर ने ओमिक्रॉन के लक्षणों की जानकारी दी है.

अंग्रेजी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में संक्रमित डॉक्टर ने ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर कई बातें कही हैं. बातचीत में चिकित्सक ने कहा कि वायरस से संक्रमित होने के बाद उनके शरीर में दर्द होने लगा. इसके अलावा उन्हे ठंड लगने लगी साथ ही बुखार भी आ गया. उन्होंने कहा कि इसके अलावा उन्हें और कोई तकलीफ नहीं हुई. इस दौरान वो पूरी तरह होम आइसोलेशन में रहे.

गौरतलब है कि जिस समय डॉक्टर को ओमिक्रॉन से संक्रमित होने का पता चला तो उन्होंने पहले होम आइसोलेशन में रहने का फैसला किया. तीन दिन होम आइसोलेशन में रहने के बाद भी उनकी हालत में कोई सुधार नहीं आया तो उन्होंने अस्पताल में भर्ती होने का फैसला लिया. हालांकि उनके शरीर पर अभी ओमिक्रॉन वेरिएंट का ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ा है. एचआरसीटी स्कैन में फैफड़ों में ज्यादा संक्रमण नहीं दिख रहा है.

38 देशों के साथ साथ ओमिक्रॉन भारत में दस्तक दे चुका है. इसके मामले भारत में देखने को मिले हैं. लेकिन सबसे बड़ी बाधा यह है कि अभी इस वायरस के बारे में पूरी जानकारी नहीं मिल पाई है. ओमिक्रॉन को लेकर दुनिया भर में खौफ का महौल है. इस डर का यह कारण है कि शुरुआती जांच में जो रिपोर्ट मिले हैं उसके अनुसार ओमिक्रॉन कोरोना के डेल्टा वैरिएंट से कहीं ज्यादा तेजी से म्यूटेशन करने वाला वैरिएंट है. इसके 50 म्यूटेशन हो चुके हैं. सबसे बड़ी बात की 30 म्यूटेशन उसके स्पाइक प्रोटीन में हुए हैं. जो इसे और घातक बनाता है. क्योंकि, स्पाइक प्रोटीन के जरिए ही वायरस इंसानों में प्रवेश करता है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें