1. home Hindi News
  2. national
  3. irctc latest news irctc sends message of confirmed train ticket in hindi then there was a ruckus in tamil nadu know what happened then vwt

IRCTC ने हिंदी में भेजा ट्रेन का टिकट कन्फर्म होने का संदेश, तो तमिलनाडु में मच गया बवाल, जानिए फिर क्या हुआ...

By Agency
Updated Date
हिंदी में टिकट कन्फर्मेशन संदेश पर मचा बवाल.
हिंदी में टिकट कन्फर्मेशन संदेश पर मचा बवाल.
प्रतीकात्मक फोटो.

IRCTC Latest News : भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड (IRCTC) ने तमिलनाडु के एक सांसद को हिंदी में ट्रेन का टिकट कन्फर्म होने संबंधित संदेश क्या भेज दिया, तो तमिनाडु में बवाल मच गया. यहां के डीएमके और पीएमके के कई सांसद माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर पूरी तरह भड़क गए. उन्होंने एक पर एक लगातार कई ट्वीट कर दिया.

दरअसल, द्रविड़ मुनेत्र कषगम (DMK) और एनडीए के घटक दल पीएमके ने तमिलनाडु में रेल यात्रियों को रेल टिकट के कन्फर्म होने से संबंधित एसएमएस हिंदी में कथित तौर पर भेजे जाने की आलोचना की. दक्षिणी रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि यह मामला उनके दायरे में नहीं आता है. दक्षिणी चेन्नई से द्रमुक सांसद तमिलाची थांगपांडियन ने कथित तौर पर हिंदी में मिले एसएमएस का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर साझा किया.

गैर-हिंदी राज्यों पर हिंदी थोपना बंद किया जाए

उन्होंने कहा कि हिंदी को लागू न करने के अपने वादे के बावजूद भारत सरकार कपटपूर्ण तरीके से भाषा को लागू कर रही है. गैर-हिंदी भाषी राज्यों पर हिंदी को थोपना बंद किया जाए. उन्होंने कई ट्वीट में रेल मंत्रालय को टैग किया और यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया कि गैर-हिंदी भाषी भी आईआरसीटीसी सेवाओं का उपयोग करने में सक्षम हों.

डीएमके सांसद कनिमोई ने की हिंदी थोपने की निंदा

पार्टी सांसद कनिमोई ने भी कथित तौर पर हिंदी को थोपने की निंदा की. उन्होंने केन्द्र का स्पष्ट संदर्भ देते हुए कहा कि वे लोगों की भावनाओं का सम्मान नहीं कर रहे हैं और बार-बार हिंदी थोप रहे हैं. उन्होंने यहां हवाई अड्डे पर पत्रकारों से कहा, ‘लोग (तमिलनाडु में) एसएमएस को नहीं पढ़ सकते हैं] क्योंकि यह हिंदी में है. उन्होंने ऐसी घटनाओं के कारण ‘‘गंभीर नतीजों'' के प्रति चेताया.

पीएमके संस्थापक ने की कार्रवाई की मांग

पीएमके संस्थापक एस रामदॉस ने आरोप लगाया कि तमिलनाडु में ई-टिकट के लिए एसएमएस पिछले दो दिनों से हिंदी में भेजे जा रहे हैं. उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि यह गैर-हिंदी भाषी लोगों पर हिंदी को लागू करने की योजना है. रेलवे को इसे रोकना चाहिए. उन्होंने इस कृत्य के पीछे शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की और आग्रह किया कि तमिलनाडु में केंद्र सरकार से संबंधित सभी घोषणाएं केवल तमिल और अंग्रेजी में जारी की जानी चाहिए.

दक्षिण रेलवे ने कही ये बात

संपर्क किये जाने पर दक्षिणी रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि ई-टिकटिंग को भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड (आईआरसीटीसी) द्वारा देखा जाता है और यह मामला उसके दायरे में आता है.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें