जेल जाने से पहले बोले मसूद, मोदी से माफी नहीं मांगूंगा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

सहारनपुर : उत्तर प्रदेश के सहारनपुर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद को देवबंद अदालत की जुडिशियल मजिस्टे्रट अर्चना रानी ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. जेल जाने से पहले मसूद ने कहा कि मैंने जो कुछ कहा, वह असंसदीय शब्द थे, इसलिए मुझे उनपर अफसोस है लेकिन मैं मोदी से माफी नहीं मांगूंगा.

उन्होंने कहा कि मैं का विरोध करता था और हमेशा करता रहूंगा. कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद के खिलाफ नरेंद्र मोदी पर की गयी अमर्यादित टिप्पणी पर थाना देवबंद कोतवालीमेंशुक्रवार को भारतीय दंड संहिता की धारा 153 ए ,295ए और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125 ,504 ,506 और अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था.

इमरान मसूद को पुलिस ने रात में ही उनके निवास से गिरफ्तार करके आज देवबंद अदालत में पेश किया था. सुबह से ही अदालत परिसर मंे इमरान मसूद के समर्थकों का तांता लग गया था ,जो उनके समर्थन में नारेबाजी कर रहे थे. अदालत के इस फैसले से उनके समर्थकों मेंउदासी छा गयी है.

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी इमरान मसूद को नफरत फैलाने वाले भाषण के आरोप में आज गिरफ्तार कर लिया गया. अपने भाषण में उन्होंने कथित तौर पर नरेंद्र मोदी की ‘‘बोटी..बोटी कर देने की’’ बात कही थी.

मसूद (40) को आज तडके पुलिस ने यहां स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया. अपने बयान के लिए कल माफी मांगने वाले मसूद ने अब पलटते हुए कहा कि उन्होंने कुछ गलत नहीं किया.मसूद ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह सब भाजपा का षड्यंत्र है. मुझे कोई पश्चाताप नहीं है क्योंकि मैंने कुछ भी गलत नहीं किया. मैं न तो नरेंद्र मोदी से माफी मांगूंगा और न ही भाजपा से.’’ पुलिस आज मसूद को देवबंद अदालत में पेश करेगी.

सहारनपुर में एक सभा के वीडियो फुटेज में मसूद प्रधानमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते दिखाई देते हैं. इस वीडियो के वेब पर प्रचारित होने से हंगामा खडा हो गया.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (सहारनपुर) मनोज कुमार ने कहा, ‘‘हमें मसूद का एक वीडियो फुटेज मिला है. इसकी समीक्षा के आधार पर उनके खिलाफ देवबंद थाने में मामला दर्ज किया गया है.’’ उन्होंने बताया कि मसूद के खिलाफ भादंसं की धाराओं 295ए (सुनियोजित और दुर्भावना से प्रेरित कृत्य, धर्म या धार्मिक पंथ का अपमान कर धार्मिक भावनाएं भडकाने), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान करना), 506 (आपराधिक भयादोहन) तथा जन प्रतिनिधित्व कानून की धारा 125 (चुनाव के संबंध में वगो’ के बीच वैमनस्य बढाने) और 310 अनुसूचित जाति..जनजाति कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है. कुमार ने कहा कि आवश्यक जांच की जा रही है और कानूनी कार्यवाही की जाएगी.

कांग्रेस प्रत्याशी मसूद वीडियो में यह कहते दिखाई देते हैं, ‘‘यदि मोदी उत्तर प्रदेश को गुजरात बनाने की कोशिश करते हैं तो हम उनकी बोटी बोटी कर देंगे..अपने मारे जाने या किसी पर हमला करने का मुङो कोई भय नहीं है. मैं मोदी के खिलाफ लडूंगा. वह सोचते हैं कि उत्तर प्रदेश गुजरात है. गुजरात में केवल 4 प्रतिशत मुसलमान हैं, जबकि उप्र में 42 प्रतिशत मुसलमान हैं.’’

मसूद का बचाव करते हुए कांग्रेस नेता रीता बहुगुणा जोशी ने कहा, ‘‘उनका बयान चुनाव के बारे में नहीं है..इसके अतिरिक्त अखबारों की खबर में कहा गया है कि बयान छह महीने पुराना है. वीडियो में उनके :मसूद: पास खडे व्यक्ति की मौत भी हो चुकी है. किसी दूसरे समय क्या कहा गया, मुङो नहीं पता कि यह कितना प्रामाणिक है.’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह एक कानूनी मामला है. उनके खिलाफ जो भी दर्ज किया गया है, उसमें जो भी सच है, उसे पार्टी आलाकमान देखेगा, जो भविष्य की कार्रवाई पर फैसला करेगा. मैंने नहीं मानती कि अब कोई टिकट बदला जाएगा.’’ कांग्रेस ने मसूद की टिप्पणी से कल यह कहकर दूरी बना ली थी कि वह हिंसा को अस्वीकार करती है, चाहे वह शाब्दिक हो या कुछ और. वहीं, भाजपा ने इसे भडकाउ करार देते हुए इसकी निन्दा की थी और विवाद में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को घसीट लिया था.

भाजपा ने चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के लिए चुनाव आयोग से मसूद के खिलाफ कडी कार्रवाई की मांग की थी और चुनाव निकाय से मोदी सहित अपने सभी नेताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा था.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें