1. home Hindi News
  2. life and style
  3. lal bahadur shastri jayanti 2020 speech essay nibandh bhashan poem slogan quotes kavita shayari in hindi for students teachers speeches by famous personalities on shastri jayanti happy lal bahadur shastri 2020 sry

Lal Bahadur Shastri Jayanti Speech 2020: लाल बहादुर शास्त्री ने दिया था जय जवान जय किसान का नारा, उनकी जयंती पर यहां से तैयार करें भाषण

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Lal Bahadur Shastri Jayanti 2020 Speech, Quotes, Status, Thoughts, Images, Messages: 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के साथ साथ लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मनाई जाती है. इस वर्ष लाल बहादुर शास्त्री जी की 117वीं जयंती मनाई जा रही है. भारत के दूसरे प्रधानमंत्री रहे लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के वाराणसी के एक छोटे से गांव मुगलसराय में हुआ. जय जवान जय किसान का नारा देने वाले लाल बहादुर शास्त्री का बचपन गरीबी में गुजरा. भारत की आजादी के लिए लाल बहादुर शास्त्री ने विभिन्न राष्ट्रीय आन्दोलनों नमक सत्यग्रह और आसहयोग आन्दोलन में भाग लिया. सारा देश उनके बारे में यहीं जानता है कि वह देश के दूसरे प्रधानमंत्री थे और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में से एक थे. भले ही वह एक बहुत ही क्षमतावान और प्रसिद्ध व्यक्ति थे, लेकिन उन्होंने सदैव अपना जीवन सादगी से जीते हुए, इसे अपनी मातृभूमि के सेवा के लिए समर्पित कर दिया. इसलिए उनके महान व्यक्तित्व के बारे में जानना हमारे लिए बहुत ही जरुरी है. यहां से तैयार करें लाल बहादुर शास्त्री जयंती के भाषण

email
TwitterFacebookemailemail

लाल बहादुर शास्त्री कोट्स अनमोल विचार

  • हम शांति और शांतिपूर्ण विकास में विश्वास करते हैं, न केवल अपने लिए बल्कि दुनिया भर के लोगों के लिए

  • शासन का मूल विचार, जैसा कि मैं इसे देखता हूं, समाज को एक साथ रखना है ताकि यह निश्चित लक्ष्यों की ओर विकसित हो सके और मार्च कर सके

  • भारत को अपना सिर शर्म से झुकाना पड़ेगा, अगर एक भी ऐसा व्यक्ति बचा हो जिसे अछूत कहा जाए

  • हम दुनिया में सम्मान तभी जीत सकते हैं जब हम आंतरिक रूप से मजबूत होंगे और अपने देश से गरीबी और बेरोजगारी को दूर कर सकते हैं

  • हमारे देश की अनोखी बात यह है कि हमारे पास हिंदू, मुस्लिम, ईसाई, सिख, पारसी और अन्य सभी धर्मों के लोग हैं. हमारे पास मंदिर और मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च हैं. लेकिन हम यह सब राजनीति में नहीं लाते ... भारत और पाकिस्तान के बीच यही अंतर है

email
TwitterFacebookemailemail

शास्त्री जी के जन्मदिन पर भाषण

शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को हुआ था, वह पंडित जवाहर लाल नेहरू के बाद वह भारत के दूसरे प्रधानमंत्री बने थे, इसके साथ ही वह कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में से भी एक थे. शास्त्री जी महात्मा गाँधी के उन समर्थकों में से थे, जो हमेशा उनके विचारों और मूल्यों का आदर किया करते थे. वह महात्मा गाँधी के साहस और अंहिसा निती से काफी प्रभावित थे, यह उनपर महात्मा गाँधी का प्रभाव ही था, कि वह देश के आजादी की लड़ाई में इतने कम उम्र में शामिल हो गये थे.

बचपन से ही उनका देश के आजादी के प्रति खास लगाव था. बड़े होते हुए उन पर इतिहास का खास जूनून सवार था. जिसमें स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाएं भी शामिल थी, जिनसे उन्हें शांति की प्रेरणा मिली, इसके अलावा महात्मा गाँधी और एनी बेसेंट ने भी उनके जीवन पर गहरी छाप छोड़ी. वह गाँधी जी से इतने प्रभावित थे कि गाँधी जी के असहयोग आंदोलन में सरकारी विद्यालयों को छोड़ने के आवाहन पर उन्होंने अपनी पढ़ाई तक छोड़ दी और अगले ही दिन असहयोग आंदोलन में शामिल हो गये. इसके बाद वह सदैव स्वतंत्रता संघर्षों में हिस्सा लेने लगे और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एक महत्वपूर्ण सदस्य बन गये.

बाबूशिवप्रसादगुप्ताऔरभगवानदासने1921मेंकाशीविद्यापीठविश्वविद्यालयकीस्थापनाकीजहाँसे शास्त्री जीउर्तीण होकर उपाधि पाने वाले छात्र बने और इसके बाद वह नियमित रुप से स्वतंत्रता संघर्षों में हिस्सा लेने लगे. भारत के स्वतंत्रता संघर्षों के दौरान उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा, लेकिन इससे उनके हौसले में कोई कमी नही आई यही उनकी सबसे बड़ी ताकत थी. जो उन्हें दूसरों से अलग बनाती थी। जेल जाने के दौरान उन्होंने कई पश्चिमी क्रांतिकारीयों और दार्शनिकों के बारे में जानने का मौका मिला.

स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात वह संयुक्त प्रांत (वर्तमान में उत्तर प्रदेश) के पहले गृह मंत्री बने और उन्होंने 1947 के सांप्रदायिक दंगो की रोकथाम तथा शरणार्थियों को बसाने में सार्थक भूमिका निभाई, उनके इस कार्य की सबसे खास बात यह थी की इसके लिये उन्होंने कोई बल प्रयोग नही किया, जो कि उनके नेतृत्व क्षमता का प्रत्यक्ष प्रमाण था। भारत का प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने कहा की वह ऐसा भारत बनायेंगे जहां लोगो के स्वतंत्रता और खुशी से कोई समझौता नही होगा. उनका एक मात्र लक्ष्य हमारे देश को धर्मनिरपेक्ष और मिश्रित अर्थव्यवस्था के साथ एक लोकतांत्रिक व्यवस्था बनाना था, जिसके लिए किये गये प्रयासों के लिये लोग उन्हें आज भी याद करते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

लाल बहादुर शास्त्री के जन्मदिन पर भाषण

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को भारत में उत्तर प्रदेश के मुगल सराय में हुआ था. उनके पिता का नाम शारदा प्रसाद था और वे एक स्कूल शिक्षक थे. उनकी माता का नाम रामदुलारी देवी था. लाल बहादुर शास्त्री के पिता की मृत्यु हो गई जब वह केवल एक वर्ष के थे. उसकी दो बहनें हैं. पिता की मृत्यु के बाद, उनकी माँ रामदुलारी देवी उन्हें और उनकी दो बहनों को अपने पिता के घर ले गईं और वहीं बस गईं.

शिक्षा और विवाह

बचपन से ही, लाल बहादुर शास्त्री बहुत ईमानदार और मेहनती थे. लाल बहादुर शास्त्री को 1926 में काशी विद्यापीठ से प्रथम श्रेणी में स्नातक की उपाधि दी गई, तब उन्हें शास्त्री विद्वान की उपाधि दी गई. लाल बहादुर शास्त्री ने अपने बचपन में साहस, साहस, संयम, आत्म-नियंत्रण, शिष्टाचार और निस्वार्थता जैसे गुणों को प्राप्त किया। स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए, लाल बहादुर शास्त्री ने अपनी पढ़ाई के साथ भी समझौता किया. लाल बहादुर शास्त्री का विवाह ललिता देवी से हुआ. और लाल बहादुर शास्त्री और उनकी पत्नी दोनों ने 6 बच्चों को आशीर्वाद दिया। उनके बच्चों का नाम कुसुम, हरि कृष्णा, सुमन, अनिल, सुनील और अशोक था.

स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान

लाल बहादुर शास्त्री स्वतंत्रता के लिए राष्ट्रीय संघर्ष की ओर आकर्षित हुए थे जब वह एक लड़का था. वह गांधी के भाषण से बहुत प्रभावित थे जो कि बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के नींव समारोह में दिया गया था. उसके बाद, वह गांधी के वफादार अनुयायी बन गए और फिर स्वतंत्रता आंदोलन में कूद गए. इस वजह से उन्हें कई बार जेल जाना पड़ा. लाल बहादुर शास्त्री को हमेशा माना जाता था कि आत्मनिर्भरता और आत्मनिर्भरता एक मजबूत राष्ट्र बनाने के लिए स्तंभ के रूप में. लाल बहादुर शास्त्री ने अपने कामों को याद करने की बजाए बुलंद भाषणों की घोषणा करते हुए अच्छी तरह से सुनाए गए भाषणों को याद किया. वह हमेशा प्रचलित जाति व्यवस्था के खिलाफ थे और इसलिए उन्होंने अपना उपनाम छोड़ने का फैसला किया और स्नातक होने के बाद उन्हें शास्त्री उपनाम मिला.

email
TwitterFacebookemailemail

लाल बहादुर शास्त्री पर यहां से तैयार करें भाषण

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, सम्माननीय शिक्षक गण एवं मेरे प्यारे भाइयो और बहनों आज मुझे आपके समक्ष लाल बहादुर शास्त्री जैसे महापुरुष के बारे मे बताते हुए बेहद खुशी हो रही है.

लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में हुआ था. इनके पिता का नाम श्री मुंशी शारदा प्रसाद श्रीवास्तव और माता का रामदुलारी था. इनके पिता एक शिक्षक थे. शास्त्री जी अपने परिवार में सबसे छोटे थे इसलिये सब प्यार से उन्हे नन्हे बुलाते थे.

शास्त्री जी एक क्रांतिकारी व्यक्ति थे और इन के द्वारा गांधी जी के नारे को “मरो नहीं, मारो” में चतुराई से बदलाव मात्र से देश में क्रांती की भावना जाग उठी और उसने प्रचंड रूप ले लिया और इसके लिये शास्त्री जी को जेल भी जाना पड़ा.

आजादी के बाद शास्त्री जी की साफ-सुथरी छवि ने उन्हे नेहरू जी के मृत्यु के बाद देश का दूसरा प्रधान मंत्री बनाया और उनके सफल मार्गदर्शन में देश काफी आगे बढ़ा. अनाजों की कीमतों में कटौती, भारत-पाकिस्तान की लड़ाई में सेना को खुली छूट देना, ताशकंद समझौता जैसे महत्वपूर्ण कदम उठाते में उनकी मृत्यु ताशकंद में रहस्यमयी तरीके से हो गई.

लाल बहादुर शास्त्री अपने देश के लिये बलिदान और सच्ची देश भक्ती के लिये सदैव जाने जाएंगे. मरणोपरांत इन्हे भारत रत्न से सम्मानित किया गया.

जय हिन्द

email
TwitterFacebookemailemail

यहां से तैयार करें लाल बहादुर शास्त्री जयंती के भाषण

आजाद भारत के दूसरे प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर 1904 में हुआ था. इनके माता-पिता का नाम श्री मुंशी शारदा प्रसाद श्रीवास्तव और श्रीमती रामदुलारी था। लाल बहादुर शास्त्री का असली नाम लाल बहादुर श्रीवास्तव था, जिसे उन्होने अपने विश्वविद्यालय से प्राप्त “शास्त्री” की उपाधि से हमेशा के लिये बदल दिया और वे शास्त्री जी के नाम से जाने जाने लगे.

इन्होने देश को आजादी दिलाने में बहुत अहम भूमिका निभाई, और राष्ट्र हित में कई बार जेल भी गये. वे एक सच्चे राजनेता थे, जिन्हे जनता भी बेहद प्रेम करती थी.

उन्होने प्राणों कि चिंता किये बिना, देश हित के लिये रूस जाने का फैसला लिया और वहां ताशकंद में उनकी रहस्यमयी तरीके से मृत्यु हो गई.

उनके सत्यनिष्ठा, देशभक्ति एवं सरलता के कारण उन्हे सदैव याद किया जाता है और मृत्यु पश्चात उन्हे भारत रत्न से नवाजा गया. वे एक सच्चे राजनेता थे जो भले इतिहास के पन्नों पर दर्ज हों लेकिन भारतियों के हृदय में सदैव जीवित रहेंगे.

जय हिन्द।

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें