1. home Hindi News
  2. health
  3. homeopathy medicine arsenicum album 30 will cure corona

होम्योपैथी दवा आर्सेनिक अल्बम 30 क्या बचा सकती है कोरोना से? जानिए वायरल मैसेज की सच्चाई

By SumitKumar Verma
Updated Date
Arsenicum Album 30
Arsenicum Album 30
Homeopathy Medicine

होम्योपैथी दवा आर्सेनिक अल्बम 30 को लेकर सोशल मीडिया में कुछ भ्रांतियां फैलाई जा रही है. लोगों के बीच एक मैसेज जोर-शोर से वायरल हो रहा है जिसमें लिखा है कि आर्सेनिक अल्बम 30 के 4-5 बूंद प्रतिदिन लेने से कोरोना का प्रभाव नही पड़ेगा. जानें क्या सच में आर्सेनिक अल्बम 30 बचा सकती है Corona से या फिर ये वायरल मैसेज है झूठ.

दरअसल आयुष मंत्रालय और सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी (सीसीआरएच) ने आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोना वायरस से संक्रमण के खिलाफ रोगनिरोधी दवा के रूप में माना है. इसे लेकर मिनिस्ट्री ऑफ आयुष के वेबसाइट पर एक नोट भी जारी कि गई है.

विशेषज्ञों की मानें तो इसकी एक खुराक प्रतिदिन खाली पेट लेने से कोरोना से लड़ने में प्रभावी हो सकता है. इसके अलावा विशेषज्ञ समूह ने सलाह दी है कि रोग की रोकथाम के लिए निम्नलिखित स्वास्थ्यकर उपायों का जनता द्वारा पालन करने से कोरोना के कहर से बचा जा सकता है. जानें ऐसे ही कुछ उपायों के बारे में-

आयुर्वेदिक परंपराओं के अनुसार, रोकथाम प्रबंधन के लिए निम्नलिखित उपाय सुझाए गए हैं

- व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें.

- साबुन और पानी से अपने हाथों को कम से कम 20 सेकैंड तक धोएं.

- कम से कम 20 सेकंड के लिए अपने हाथों को अक्सर साबुन और पानी से धोएं.

- शदांग पनिया (मुस्ता, परपाट, उशीर, चंदन, उडिच्य़ा और नागर) प्रसंस्कृत पानी (1 लीटर पानी में 10 ग्राम पाउडर डाल कर उबालें, जब तक यह आधा तक कम न हो जाए) पी लें. इसे एक बोतल में स्टोर करें और प्यास लगने पर पिएं.

- बिना धोए हाथों से अपनी आँखें, नाक और मुँह छूने से बचें.

- जो लोग बीमार हैं उनसे निकट संपर्क से बचें.

- बीमार होने पर घर पर रहें.

- खांसी या छींक के दौरान अपना चेहरा ढंक लें और खांसने या छींकने के बाद अपने हाथों को धो लें.

- अक्सर छुई गए वस्तुओं और सतहों को साफ करें.

- संक्रमण से बचने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर यात्रा करते समय या काम करते समय एक एन95 मास्क का उपयोग करें.

- यदि आपको कोरोना वायरल संक्रमण का संदेह है, तो मास्क पहनें और तुरंत अपने नजदीकी अस्पताल से संपर्क करें.

- आयुर्वेदिक प्रथाओं के अनुसार रोगनिरोधी उपाय / इम्यूनोमॉड्यूलेटरी ड्रग्स.

- स्वस्थ आहार और जीवन शैली के माध्यम से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए उपाय किए जाएंगे.

- अगस्त्य हरितकी 5 ग्राम, दिन में दो बार गर्म पानी के साथ.

- शेषमणि वटी 500 मिलीग्राम दिन में दो बार.

- त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम और तुलसी 3-5 पत्तियां (1-लीटर पानी में उबालें, जब तक यह ½ लीटर तक कम नहीं हो जाता है और इसे एक बोतल में रख लें) इसे आवश्यकतानुसार और जब चाहे तब घूंट में लेते रहें.

- प्रतिमार्स नास्य : प्रत्येक नथुने में प्रतिदिन सुबह अनु तेल / तिल के तेल की दो बूंदें डालें.

कोरोना वायरस के संक्रमण के लक्षण में उपयोगी कुछ यूनानी दवाएं

- शरबतउन्नाब : 10-20 मिली दिन में दो बार

- तिर्यकअर्बा : 3-5 ग्राम दिन में दो बार

- तिर्यक नजला : 5 ग्राम दिन में दो बार

- खमीरा मार्वारिद : 3-5 ग्राम दिन में एक बार

- स्कैल्प और छाती पर रोगन बाबूना/रोगन मॉम/कफूरी बाम से मालिश करें

- नथुने में रोगन बनाफशा धीरे-धीरे लगाएं

- अर्क अजीब 4-8 बूंद ताजे पानी में लें और दिन में चार बार इस्तेमाल करें

- बुखार होने की स्थिति में हब ए एकसीर बुखार 2 की गोलियां गुनगुने पानी के साथ दिन में दो बार लें.

- 10 मिली शरबत नाजला 100 मिली गुनगुने पानी में दो बार रोजाना पिएं

- क़ुरस ए सुआल 2 गोलियों को प्रतिदिन दो बार चबाना चाहिए

- शरबत खाकसी के साथ-साथ निम्नलिखित एकल यूनानी दवाओं के अर्क का सेवन करना बहुत उपयोगी है :

जानें कुछ अन्य यूनानी दवाईयों के नाम

चिरायता

कासनी

अफसन्टीस

नानखावा

गावजावेन

नाम छाल

सादकूफी

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें