1. home Home
  2. entertainment
  3. movie review
  4. hum do hamare do movie review rajkummar rao kriti sanon romantic comedy spells magic but something missing in movie slt

Hum Do Hamare Do Review: राजकुमार-कृति की रोमांटिक-कॉमेडी ने बिखेरा जादू, फिल्म में है कुछ दिखा मिसिंग!

बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव और कृति सेनन की फिल्म 'हम दो हमारे दो' आज रिलीज हो चुका है. फिल्म में ड्रामा, रोमांस के साथ भरपूर कॉमेडी देखने को मिलेगी. यहां देखिए फिल्म का रिव्यू.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
'हम दो हमारे दो' रिलीज
'हम दो हमारे दो' रिलीज
instagram

Hum Do Hamare Do Review: बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव और कृति सेनन की फिल्म 'हम दो हमारे दो' आज रिलीज हो चुका है. इन-दोनों की जोड़ी पहले भी दर्शकों को इंटरटेन कर चुकी है. दोनों पिछली बार फिल्म ‘बरेली की बर्फी’ में साथ दिख चुके हैं. इस फिल्म में भरपूर ड्रामा, कॉमेडी और रोमांस देखने को मिलेगा. लेकिन हैप्पी एंड्ग के बाद भी दर्शकों के मन में यह सवाल रहेगा कि कुछ तो फिल्म में मिसिंग जरुर था.

फिल्म की कहानी की बात करें तो बाल प्रेमी (राजकुमार राव) नाम के एक अनाथ बच्चे की है, जिसे कुछ बड़ा करने की मन में इच्छा होती है. ऐसे में बाल प्रेमी यानी कि ध्रूव 12 साल की उम्र में मुंहबोले चाचा का ढाबा छोड़कर अपनी मंजिल तलाशने निकल पड़ता है. बाद में वह अपना सपना एक एप्प बनाकर पूरा भी करता है. जिसके बाद वह अपने कल्पनाओं को साकार होते देखना चाहता है, जिसे उसने वर्षों से संजोकर रखा. जिसमें एक परिवार हो. बचपन में वह एक लड़की आन्या (कृति सेनन) नाम की लड़की से प्यार भी करता है.

आन्या के मां-बाप नहीं होते है, ऐसे में उसका सपना होता है कि उसके सास-ससूर ऐसे हो, जो उसे मां-बाप जैसा प्यार दे. जिसके बाद आन्या की यही इच्छा ध्रुव के लिए सिरदर्द साबित होती है और इसी सिरदर्द के इर्द-गिर्द घूमता है, फिल्म की पूरी कहानी. इसमें उसकी मदद सेंटी (अपारशक्ति खुराना) और उसे मुंहबोले चाचा (परेश रावल) करते हैं.

फिल्म का मजबूत पक्ष

फिल्म का मजबूत पक्ष इसके स्टारकास्ट (राजकुमार राव, परेश रावल, कृति सेनन, रत्ना पाठक और अपारशक्ति खुराना). राजकुमार राव से दर्शकों को अक्सर काफी उम्मीदें रहती हैं.

फिल्म का कमजोर पक्ष

फिल्म की कहानी में कोई दम नहीं है. फिल्म की कहानी बिल्कुल नॉर्मल है. जो दमदार डायलॉग्स होने चाहिए थे, वह यहां दूर-दूर तक नहीं है. फिल्म में 2-3 अच्छे गानों होने चाहिए थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इसके अधिकतर सीन्स प्रेडिक्ट किए जा सकते हैं. ऐसे में फिल्म देखते वक्त वो क्यूरॉसिटी आप शायद ही महसूस कर पाएं.

इस फिल्म में कहीं-कहीं पर दर्शकों को ठहाके लगाने का मौका मिलेगा. फिल्म में कॉमेडी सीन्स भी है, जो दर्शकों को पूरी फिल्म देखने पर मजबूर कर देगी. इसके अलावा अपारशक्ति खुराना मनु ऋषि, प्राची पांड्या और सानंद वर्मा ने हमेशा की तरह शानदार अभिनय किया है जो आपको एंटरटेन भी करेगा. यह फिल्म जस्ट फॉर वन टाइम वॉच है.

Posted By Ashish Lata

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें