1. home Hindi News
  2. entertainment
  3. bollywood
  4. sonu sood is preparing to send home migrant workers of jharkhand bihar uttar pradesh said paperwork is in process

झारखंड बिहार के श्रमिकों को घर भेजने की तैयारी कर रहे हैं सोनू सूद, बोले- कागजी कार्रवाई प्रक्रिया में...

By Budhmani Minj
Updated Date
Sonu sood
Sonu sood
photo: PTI

अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) बॉलीवुड के ऐसे कलाकार बन गए हैं जो असहाय, अभावग्रस्त प्रवासियों को घर भेजने के लिए परिवहन की व्यवस्था कर रहे हैं. सोनू ने कई बस सेवाओं का आयोजन किया है जो प्रवासी श्रमिकों को उनके घर वापस भेजने में मदद करेगा और सभी कोरोना वायरस के इस कठिन समय में अपने परिवारों से मिल हो पाएंगे. सोमवार को अभिनेता ने कर्नाटक से महाराष्ट्र की यात्रा करने के लिए 350 प्रवासी श्रमिकों के लिए बस की व्यवस्था की थी और आने वाले दिनों में झारखंड, बिहार और उत्तर प्रदेश में और लोगों को भेजने की उम्मीद है.

उन्होंने मुंबई मिरर से बातचीत में कहा, “उन्हें खुश और भावुक देखकर बहुत संतोष हुआ कि वे घर जा रहे हैं. हम ओडिशा, झारखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार के लोगों को उनके स्थानों पर भेजने के लिए एक योजना बनाने की कोशिश कर रहे हैं. हम रांची और बिहार के लोगों के काम कर रहे हैं जो अंतिम चरण में हैं. कागजी कार्रवाई प्रक्रिया में है. अगर सब कुछ ठीक रहा, तो हम उन्हें आज या कल भेजने की कोशिश करेंगे.”

सोनू सूद ने कहा कि वह एक टीम के रूप में दोस्तों और एनजीओ के साथ काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा, “जब मैं इन डॉक्टरों, नर्सों, पुलिसकर्मियों और अन्य अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के बारे में पढ़ता हूं, तो मैं निस्वार्थ भाव से अपने कर्तव्यों का पालन करता हूं. मैं सामाजिक दूरी बनाए रखता हूं और कुछ मिनटों के बाद बार-बार, सभी सावधानियां बरतने की कोशिश करता हूं. जब आप इन लोगों के साथ बातचीत करते हैं, तो वे उम्मीद महसूस करते हैं. उन्हें लगता है कि कुछ लोग उन्हें वापस घर भेज देंगे. इसमें कुछ समय लग सकता है लेकिन ऐसा होगा.”

उन्‍होंने मौजूदा समय के बारे में कहा,' अब यह अलग दुनिया है और इससे बाहर निकलते ही यह एक बहुत ही अलग दुनिया होगी. हम सभी काम, फाइनेंस, शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के मामले में बुरी तरह प्रभावित हुए हैं.' उन्‍होंने आगे कहा था, “हमें परिस्थितियों में जीने का रास्ता खोजना होगा. मेरा दिन प्रवासी श्रमिकों के लिए परिवहन, सरकारी अनुमति लेने, अन्य चीजों के बीच भोजन का आयोजन करने जैसी चीजों में जाता है. मैं संतुष्ट महसूस करता हूं. मेरे पास समय है, तो जरूरतमंदों को देना महत्वपूर्ण है.'

हिंदुस्तान टाइम्स को दिए एक इंटरव्‍यू में उन्होंने कहा था, “मैं सिर्फ 5500 रुपये लेकर मुंबई आया था और मैंने पर्याप्त कमाई की थी. मेरी माँ कहती है 'जीवन देने के लिए है'. यदि मैं समाज को कुछ नहीं दे सकता हूं, तो यह एक अच्छा जीवन नहीं है जिसका मैं नेतृत्व कर रहा हूं. मेरे घर की सुख-सुविधाओं में रहने के दौरान ये लोग क्या कर रहे हैं, यह सोचकर मेरी रातों की नींद हराम हो जाती है. ”

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें