1. home Home
  2. entertainment
  3. bollywood
  4. flashback rajesh roshan recall incident feeling amitabh bachchan anger on phone yarana movie song bud

Flashback : जब 'याराना' के इस गाने की शूटिंग के दौरान नाराज हो गए थे अमिताभ बच्चन

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) अपने प्रदर्शन से आज भी लोगों का दिल जीत रहे हैं. हिंदी सिनेमा को उन्होंने कई सारी सुपरहिट फिल्में दीं है. उनकी फिल्मों के गाने भी सुपरहिट रहते थे. बॉक्स ऑफिस पर उनकी फिल्म कभी कभार न चले, लेकिन गाने सुपरहिट रहे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
amitabh bachchan
amitabh bachchan
instagram

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) अपने प्रदर्शन से आज भी लोगों का दिल जीत रहे हैं. हिंदी सिनेमा को उन्होंने कई सारी सुपरहिट फिल्में दीं है. उनकी फिल्मों के गाने भी सुपरहिट रहते थे. बॉक्स ऑफिस पर उनकी फिल्म कभी कभार न चले, लेकिन गाने सुपरहिट रहे. अब म्यूजिक डायरेक्टर राजेश रोशन (Rajesh Roshan)ने अमिताभ बच्चन के बारे में एक वाक्या शेयर किया है जब वो यराना के गाने के दौरान गुस्सा हो गये थे. साल 1981 में अमिताभ बच्चन की फिल्म याराना रिलीज हुई थी. फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा परफॉर्म किया था. इस फिल्म के गानों ने भी खूब वाहवाही लूटी थी.

फिल्म का गाना छू कर मेरे मन को खूब पसंद किया गया था. इस गाने के कंपोजर राजेश रोशन ने हाल ही में इंडियन एक्सप्रेस को दिये एक इंटरव्यू में बताया, इसका एक बड़ा इतिहास रहा है. याराना की शूटिंग पूरी होने के बाद अमिताभ बच्चन हर दिन मेरे म्यूजिक रूम में आते थे. जब गाना बन रहा था तो वह इस फिल्म की शूटिंग के लिए कलकत्ता गए थे.

उन्होंने आगे कहा, उन्होंने कलकत्ता एक सुबह मुझे फोन किया और कहा कि यह गाना बहुत फास्ट बनाया गया है, वो इसे शूट नहीं कर पाएंगे. मैंने उनसे कहा कि अगर उन्हें मुझ पर भरोसा है, तो उन्हें इसे फिल्माना चाहिए. मैं उनका गुस्सा फोन पर महसूस कर सकता था. लेकिन उन्होंने गाने को वैसे ही शूट किया, इसे कैंसल नहीं किया, हालांकि उनका ओहदा इतना था कि वो निर्देशक राकेश कुमार को गीत और संगीत निर्देशक को बदलने के लिए कह सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया. हालांकि आजकल अक्सर ऐसा होता है. जिस तरह से किशोर कुमार ने इसे गाया था, उसे आज कोई नहीं भूलेगा, यह एक याद रखने वाला गीत है.

बता दें कि, 1970 के दशक में फिल्म संगीत में शुरुआत करने के बाद, राजेश रोशन ने जूली (1975) से लोकप्रियता हासिल की. इसके बाद उन्होंने स्वामी, देस परदेस, मिस्टर नटवरलाल, काला पत्थर, खून भरी मांग, किशन कन्हैया, करण अर्जुन, पापा कहते हैं, कोयला, दाग और क्या कहना जैसे कई सफल एल्बमों के लिए काम किया.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें