Bihar Flood: घटते पानी से भी बढ़ने लगा खतरा, अब बीमारी से बचना बना चैलेंज, देखें पानी उतरने के बाद का मंजर

Prabhat khabar Digital

जिले के कई गांव टापू में तब्दील हो गये हैं. लोग सड़क के किनारे आकर बसने को मजबूर हैं. मवेशियों का इंतजाम भी परेशानी पैदा कर रहा है.

जितनी तेजी से गंगा का जलस्तर बढ़ रहा था, अब उतनी ही तेजी से इसमें कमी भी आ रही है.

उतरते हुए पानी के बाद गंदगी को हटाना बड़ी चुनौती हो गयी है. वहीं सड़कों की हालत बेहद खराब हो चुकी है.

गंगा में आयी बाढ़ के कारण जिले के सैकड़ों गांव बाढ़ के पानी से घिर गये हैं.

बाढ़ का पानी मुख्य सड़क मार्गों को घेर चुका है. हालांकेि अब जलस्तर घटने के कारण स्थिति सामान्य होने लगी है.

बाढ़ से बरारी, खानकित्ता, फरका, ममलखा, शंकरपुर सहित कई इलाके जलमग्न हो गये हैं.

गंगानदी के किनारे बसे शहर के विभिन्न मुहल्ले के लोगों की परेशानी बढ़ती जा रही है.

भागलपुर के शहरी इलाकों में भी बाढ़ का पानी घुसा हुआ है. लोगों की समस्याएं बढ़ी हुई है.

राहत शिविर में करीब 50 प्रतिशत से अधिक लोगों को खांसी सर्दी की शिकायत है.

विवि के स्वास्थ्य केंद्र जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ रहा है.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan