पटना की अवैध मंडी में 500 नावों से रोज आता है सोन का बालू, लाल सोना के काले कारोबार की एक्सक्लूसिव तसवीरें

Prabhat khabar Digital

बालू के अवैध कारोबार को लेकर प्रभात खबर ने एक बार फिर की पड़ताल. गांधी सेतु के ठीक नीचे ही बालू की अवैध मंडी लग रही है.फोटो:- सरोज

यहां रोज 500 से अधिक नावों पर सैकड़ों क्विंटल गंगा के रास्ते बालू को लाया जा रहा है.फोटो:- सरोज

घाटों पर नाव से बालू निकाल ट्रैक्टर पर लोड किया जाता है, जहां से बाजार में बालू बिकने के लिए जाता है. शाम चार बजे के बाद ही यहां मंडी सज जाती है.फोटो:- सरोज

कोइलवर-बिहटा से लेकर पटना तक शाम ढलते ही अवैध खनन का खेल शुरू हो जाता है. कोइलवर के पास कमालचक, मानाचक, सुरौधा टापू सहित करीब एक दर्जन जगहों से बालू का अवैध खनन होता है. फोटो:- सरोज

एक घाट पर 100 से 500 तक अवैध बालू लदी नावें आती है. नावों से पूरी नदी पट जाती है. फोटो:- सरोज

एक घाट पर 100 से अधिक मजदूर काम करते हैं.जैसे-जैसे बालू लोड होती जाती है, नावें अपनी मंजिल की ओर बढ़ जाती हैं.फोटो:- सरोज

सुबह तीन-साढ़े तीन बजे तक यहां से कई दिशाओं में बालू को ले जाया जाता है. फोटो:- सरोज

छपरा के डोरीगंज, सोनपुर, मनेर, दीघा घाट, पहलेजा घाट और फिर सोनपुर और फिर पटना के कई घाटों पर बालू लाया जाता है.फोटो:- सरोज

फोटो क्रेडिट:- सरोज