WhatsApp Update: व्हाट्सऐप का रंग बदलने की कोशिश की, तो खबरदार...

Prabhat khabar Digital

व्हाट्सऐप को गुलाबी रंग में बदलने का दावा करने वाला मैसेज वायरस है. इससे आपका फोन हैक हो सकता है. साइबर विशेषज्ञों ने लिंक के जरिये फोन पर भेजे जा रहे वायरस को लेकर आगाह किया है. इस लिंक में दावा किया जाता है कि व्हाट्एसऐप गुलाबी रंग का हो जाएगा और उसमें नयी खूबियां जुड़ जाएंगी.

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञों के अनुसार, लिंक में दावा किया जाता है कि यह व्हाट्सऐप की तरफ से ऑफिशियल अपडेट के लिए है. लेकिन लिंक पर क्लिक करते ही संबंधित यूजर का फोन हैक हो जाएगा और हो सकता है कि वे व्हाट्सऐप का उपयोग नहीं कर पाये.

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ राजशेखर राजहरिया ने सोशल मीडिया पर लिखा है, व्हाट्एसऐप पिंक को लेकर सवाधान! एपीके डाउनलोड लिंक के साथ व्हाट्सऐप ग्रुप वायरस फैलाने का प्रयास किया जा रहा है. व्हाट्सऐप पिंक के नाम से किसी भी लिंक पर क्लिक नहीं करें. लिंक को क्लिक करने पर फोन का उपयोग करना मुश्किल हो जाएगा.

साइबर सुरक्षा से जुड़ी कंपनी वोयागेर इनफोसेक के निदेशक जितेन जैन ने कहा कि उपयोगकर्ताओं को यह सलाह दी जाती है कि वे गूगल या ऐपल के आधिकारिक ऐप स्टोर के अलावा एपीके या अन्य मोबाइल ऐप को इंस्टॉल नहीं करें. उन्होंने कहा कि इस प्रकार के ऐप से आपके फोन में सेंध लग सकते हैं और फोटो, एसएमएस, कॉन्टैक्ट्स आदि जैसी सूचनाएं चुरायी जा सकती हैं.

व्हाट्सऐप ने इस बारे में कहा, अगर किसी को संदिग्ध संदेश या ई-मेल समेत कोई संदेश आते हैं, उसका जवाब देने से पहले पूरी जांच कर लें और सतर्क रुख अपनायें. व्हाट्सऐप पर हम लोगों को सुझाव देते हैं कि हमने जो सुविधाएं दी हैं, उसका उपयाग करें और हमें रिपोर्ट भेजें, संपर्क के बारे में जानकारी दें या उसे ब्लॉक करें.

व्हाट्सऐप ग्रुप में APK डाउनलोड लिंक के जरिये वायरस फैलाया जा रहा है. इस तरह के किसी भी लिंक पर क्लिक नहीं करना है, जो WhatsappPink दिखाते हैं. इससे यूजर्स का उनके फोन से पूरा एक्सेस छिन सकता है. फिलहाल, Pink Whatsapp या Whatsapp Gold का मामला भी फर्जी व्हाट्सऐप से यूजर्स का डेटा चोरी करने के लिए है.