Safer With Google: बच्चों-बड़ों के लिए गूगल लाया नये प्रोग्राम और टूल्स, होगा यह फायदा

Prabhat khabar Digital

Safer with Google 2021: Google ने गूगल फॉर इंडिया इवेंट (Google For India Event) में कई टॉप फीचर्स लॉन्च किये हैं. गूगल ने इस इवेंट में सेफ्टी टूल्स और देश में इंटरनेट को एक सुरक्षित प्लैटफॉर्म बनाने के लिए कई टॉप फीचर्स का ऐलान किया.

गूगल के इस इवेंट का मकसद यूजर्स को डिजिटल इंडिया को Safer with Google बनाने के लिए डेवलपमेंट और अपडेट के बारे में जानकारी देना है. एंड्रॉयड स्मार्टफोन यूजर्स की सेफ्टी के लिए नये सिक्योरिटी फीचर्स, गूगल क्रोम ब्राउजर में अपडेट और नये प्राइवेसी टूल्स आये हैं.

बच्चों की ऑनलाइन सेफ्टी के लिए गूगल ने खासतौर पर Be Internet Awesome कैंपेन शुरू निकाला है. यह कैंपेन पेरेंट्स और टीचर्स को एक दूसरे से कनेक्ट रखेगा. Google ने Amar Chitra Katha के साथ भी पार्टनरशिप किया है, जिससे कॉमिक कैरेक्टर के जरिये भारतीय भाषाओं में इंटरनेट सेफ्टी के बारे में बताया जाएगा.

इंटरलैंड गेम चैलेंजिंग गेम (interland game challenging game) की एक सीरीज है, जो यूजर्स को उन मुश्किलों से बचना और अलर्ट होना सिखाती है, जिनका वो ऑनलाइन सामना करते हैं. फिलहाल इसे हिंदी और अंग्रेजी भाषा में उपलब्ध कराया गया है, जिसकी जल्द अन्य भाषा में उपलब्ध होने की उम्मीद है.

गूगल ने इस इवेंट में 8 भाषाओं में Google toh apna hai एजुकेशन कैंपेन के बारे में भी बात की. Google privacy for kids में यूजर्स को स्कैमस्टर (scamster), फिशिंग वेबसाइटों (phishing websites) और अन्य माध्यमों के जरिये ऑनलाइन हैकिंग के बारे में विस्तार से जानकारी दी.

Google ने अपने नये और पहले JioPhone Next फोन में सिक्योरिटी और प्राइवेसी पर बड़ा काम किया है. इस फोन में Android 12 के साथ कई बदलाव किये हैं. इसमें Private Compute Core और एक नया डेडिकेटेड प्राइवेसी डैशबोर्ड शामिल है. Android 12 नये माइक्रोफोन और कैमरा एेक्सेस इंडिकेटर्स भी दिखाएगा.

गूगल की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, कंंपनी के पास दुनिया भर में फैली ट्रस्ट और सुरक्षा टीमें हैं जो तकनीक में निपुण हैं और वे ऑनलाइन नुकसान की पहचान करने, लड़ने और रोकने के लिए काम करती हैं. साथ ही, लोगों को जागरूक करने के लिए 10 से अधिक स्थानीय भाषाओं को जोड़ा गया है.

गूगल का मानना है कि संसाधन में बढ़ोतरी से गलत सूचना, धोखाधड़ी, बच्चों की सुरक्षा के लिए खतरे, हिंसक उग्रवाद, फिशिंग हमलों और मैलवेयर जैसे बड़े मुद्दों से निपटने में मदद मिलेगी. कंपनी ने गूगल सेफ्टी सेंटर भी लॉन्च किया है और ये हिंदी, मराठी, मलयालम, कन्नड़ और तेलुगु भाषाओं के साथ लाइव हो गया है.