IPL 2021: भारत के 'क्रिस गेल' राजस्थान के महिपाल को दादी ने कपड़ा धोने वाले बल्ले से बनाया विस्फोटक बल्लेबाज

Prabhat khabar Digital

राजस्थान के नागौर में जन्मे महिपाल लोमरोर ने आठ साल की उम्र में क्रिकेट खेलना पूर्व ऑस्ट्रेलियन विकेटकीपर एडम गिलक्रिस्ट को प्रेरणा मानकर क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था. लोमरोर 2011 में नागौर से जयपुर शिफ्ट हो गये और खुद को शीर्ष क्रम के बल्लेबाज के रूप में स्थापित किया.

Instagram

लंबे समय तक गेंद को खेल सकने की उनकी क्षमता के कारण उन्हें अपने आयु वर्ग क्रिकेट में 'जूनियर गेल' कहा जाता था. लोमरोर ने एक बल्लेबाज के रूप में शुरुआत की लेकिन बाद में धीरे-धीरे एक ऑलराउंडर बन गये. वे बाएं हाथ की स्पिन गेंदबाजी कर सकते हैं.

Instagram

महिपाल ने ईशान किशन की अगुवाई वाली 2016 अंडर-19 विश्व कप टीम का हिस्सा के रूप में प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया, जिसमें ऋषभ पंत, सरफराज खान, वाशिंगटन सुंदर, लोमरोर जैसे खिलाड़ी शामिल थे.

Instagram

तब से 21 साल के इस खिलाड़ी ने 23 मैच खेले हैं, जिसमें 36.25 की औसत से 1269 रन बनाए हैं और 28 विकेट लिए हैं. महिपाल की दादी सिणगारी देवी ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनका पोता बचपन में क्रिकेट खेलने की जिद करने लगा और कपड़े धोने वाले डंडे से क्रिकेट खेलने लगा.

Instagram

उसकी इस जिद के चलते क्रिकेट खेलने के लिए बल्ला दिलवाया. बल्ला मिलते ही महिपाल ने अपने घर के आगे की गली को ही क्रिकेट का मैदान बना दिया और अपनी बड़ी बहन से बॉलिंग करवा खुद बल्लेबाजी करना शुरू कर दिया.

Instagram

लोमरोर राजस्थान के लिए अंडर-16 और अंडर-19 लेवल पर खेलकर ऊपर उठे और बाद में अंडर-19 विश्व कप टीम में चुने गये. महिपाल ने न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने दूसरे मैच में सभी को प्रभावित किया, जिसमें न्यूजीलैंड के खिलाफ 45 रन की पारी और लाओस ने पांच रन की पारी शामिल है.

Instagram

इसके बाद बाएं हाथ के इस बल्लेबाज को तत्कालीन दिल्ली डेयरडेविल्स ने चुना था लेकिन उन्होंने उस सीजन में उनके लिए कोई मैच नहीं खेला था. राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें 2018 में चुना और साइन किया तब उन्होंने अभी सात गेम खेले हैं और टीम में शामिल हैं, लेकिन उन्होंने रॉयल्स की प्लेइंग इलेवन में दूसरे हाफ में शुरुआत की. महिपाल शुरू से ही आक्रामक थे और उसने आदिल राशिद के ओवर में दो छक्के जड़े.

Instagram