Congress Crisis : कमजोर कांग्रेस के मजबूत नेताओं ने सोनिया-राहुल को दिखाई ताकत

Prabhat khabar Digital

राष्ट्रीय फलक पर लगातार सिमट रही कांग्रेस (Congress, G-23) के समक्ष संकट और बढ़ गया है. शनिवार को गुलाम नबी आजाद (ghulam nabi azad), आनंद शर्मा और कपिल सिब्बल जैसे दिग्गज कांग्रेसी जम्मू में जुटे और एक नया मोर्चा खोलने का संकेत दिया.

महात्मा गांधी को समर्पित कार्यक्रम में जुटे इन नेताओं ने पार्टी हाइकमान पर कोई सीधी टिप्पणी तो नहीं की, लेकिन यह बताने का प्रयास किया कि पार्टी को मजबूत किये बिना अब काम नहीं चलनेवाला.

पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने कहा, हमें यह सच कबूल करने से गुरेज नहीं कि कांग्रेस कमजोर हो रही है. हम चाहते हैं कि देश के हर जिले में कांग्रेस मजबूत हो. गुलाम नबी आजाद को दोबारा राज्यसभा के लिए नामित नहीं किये जाने पर भी उन्होंने चिंता जतायी.

राज बब्बर ने कहा कि हमें लोग जी-23 कहते हैं, लेकिन मैं (महात्मा) गांधी-23 कहता हूं.

आजाद यह कहने से नहीं चूके कि वह राज्यसभा से रिटायर हुए हैं, राजनीति से नहीं.

कांग्रेस के इन असंतुष्ट नेताओं को ‘जी-23’ भी कहा जाता है. दरअसल, पिछले साल पार्टी में बदलाव की मांग को लेकर इन नेताओं ने पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को पत्र भी लिखा था.

ये दिग्गज एक मंच पर : गुलाम नबी आजाद, राज बब्बर, आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, भूपिंदर सिंह हुड्डा, विवेक तन्खा और मनीष तिवारी समारोह में मौजूद थे.