Adulteration in Pulses: कहीं आप तो नहीं खा रहे मिलावटी अरहर दाल? मिलावट की ऐसे करें पहचान

Prabhat khabar Digital

अरहर की दाल में खेसारी दाल की भी मिलावट की जा रही है. इस मिलावटी दाल को लेकर सतर्क और जागरूक रहने की जरूरत है. यह अरहर दाल के आकार से थोड़ा भिन्न होता है. इस आधार पर आप पहचान सकते हैं इसमें मिलावट की गई है या नहीं.

अरहद की दाल को सही रंग देने के लिए इसमें पीले रंग सिंथेटिक फूड कलर मिलाया जाता है. बता दें, ऐसी मिलावटी दाल का सेवन करने से जीभ, गला, गर्दन, होंठ आदि में सूजन, खुजली आदि एलर्जी हो सकती है.

अक्सर लोग दाल खरीदते समय इसकी चमक व सफाई देखते हैं. ऐसे में लोग इसे सही समझकर खरीद लेते हैं. मगर ज्यादा चमक वाली दाल पॉलिश की होती है. ऐसे में इसे हम मिलावटी दाल कहेंगे.

पॉलिश्ड दाल देखने में चमकदार व बेहद साफ लगती है. मगर सेहत के लिए हानिकारक मानी जाती है. इसे खाने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन में परेशानी हो सकती है. इसके अलावा जो लोग अस्थमा से परेशान है उनकी दिक्कत बढ़ सकती है.

मिलावटी दाल खाने से अस्थमा की समस्या बढ़ सकती है और इससे ब्लड सर्कुलेशन में भी दिक्कत आती है.

दाल की शुद्धता जांच करने के लिए थोड़ी दाल को पानी में भिगोकर कुछ देर इंतजार करें. अगर दाल मिलावटी होगी तो इसका रंग निकलने लगेगा। इसतरह पानी में रंग आने से आप समझ सकते हैं कि यह मिलावटी है या नहीं.