Advertisement

ranchi

  • Sep 13 2017 9:18AM

RANCHI : दुर्गा पूजा में यहां पाकिस्तानी खेमे में उतरेंगे भारतीय सैनिक, मचायेंगे तबाही करेंगे सर्जिकल स्ट्राइक

RANCHI : दुर्गा पूजा में यहां पाकिस्तानी खेमे में उतरेंगे भारतीय सैनिक, मचायेंगे तबाही करेंगे सर्जिकल स्ट्राइक
पूरे आयोजन  पर 40 से 45 लाख रुपये खर्च होंगे
कोकर दुर्गा पूजा समिति
रांची : कोकर दुर्गा पूजा समिति के पंडाल में इस बार वर्ष 2016 में   भारत-पाकिस्तान के   बीच  हुए  सर्जिकल स्ट्राइक का दृश्य देखने को मिलेगा. इसके लिए समिति की ओर से तैयारी की जा रही है.
 
इसके लिए बड़ा सा पहाड़ बनाया जा रहा है  और  उस पर  सैनिक की वेशभूषा में सजीव कलाकार तैनात   रहेंगे. पूजा पंडाल के ऊपर  दो हेलीकॉप्टर उड़ता हुआ नजर आयेगा  और उससे    सैनिक  उतर कर पाकिस्तानी खेमे में जाकर  तबाही मचायेंगे.  फिर वापस   आ जायेंगे.  कोलकाता के  कलाकार इसकी तैयारी में जुट गये हैं.
 
समिति की पूजा का इस वर्ष 50वां साल है
 
समिति की पूजा का इस वर्ष 50वां साल है़  पंडाल के अंदर मां भवानी की  15 फीट ऊंची प्रतिमा विराजमान होंगी. इसके अलावा अन्य देवी-देवता की प्रतिमा भी होगी. 
 
समिति के अध्यक्ष  चंचल चटर्जी ने कहा कि उनके पिताजी स्वर्गीय शंभुनाथ चटर्जी व उनके जीजा जी  सनत बनर्जी ने यहां पूजा की शुरुआत की थी़  पहले वे लोग एस्बेस्टस शीट आदि   से घेर कर पूजा करते थे. धीरे-धीरे यह पूजा बृहत रूप लेने लगी. आज सभी लोगों की सहभागिता से इस पूजा पंडाल का रांची में अहम स्थान बन गया है. 
 
समिति  पूरे  आयोजन  में  40 से 45 लाख  रुपये खर्च  कर रही है.  इसमें पंडाल पर 18 लाख  रुपये और   विद्युत साज सज्जा सहित अन्य पर 16 लाख रुपये खर्च किये जायेंगे़  शेष राशि अन्य मद में खर्च किये जायेंगे़  समिति की ओर से  महासप्तमी,महाअष्टमी और महानवमी को भोग का वितरण किया जायेगा़    बेलवरन के दिन   पंडाल के  पट का अनावरण होगा. समिति पूजा पंडाल के समीप मेला भी लगायेगी़   यहां खाने-पीने के स्टॉल से लेकर बच्चों  के लिए झूले  लगे रहेंगे.  
 
भव्य विद्युत साज-सज्जा की जायेगी
 
समिति  की ओर से  भव्य विद्युत साज-सज्जा की जायेगी़  इसके तहत 11 विद्युत चालित गेट  लगाये जायेंगे़  इसमें  विभिन्न आकृतियां  नजर आयेंगी. यह बिजली चालित गेट पूजा पंडाल से  लेकर  डिस्टिलरी पुल के पहले तक लगा रहेगा. वहीं  साइड लाइट  और  मैकेनिक लाइट भी   लगी रहेगी. यह लाइट श्रद्धालुओं के आकर्षण का  केंद्र होगी.
 

Advertisement

Comments

Advertisement