Advertisement

lucknow

  • Jan 11 2017 8:49AM

उत्तर प्रदेश चुनाव में नीतीश करेंगे भाजपा विरोधी मोरचे की अगुवाई

उत्तर प्रदेश चुनाव में नीतीश करेंगे भाजपा विरोधी मोरचे की अगुवाई

!!मिथिलेश!!

लखनऊ/पटना : उत्तर प्रदेश में अगले महीने से होने वाले विधानसभा चुनाव में जदयू को समाजवादी पार्टी के दोनों गुटों से सीटों पर तालमेल के प्रस्ताव से यह तय माना जा रहा है कि चुनाव में नीतीश कुमार भाजपा विरोधी खेमे की अगुवाई करेंगे. नीतीश के साथ गैर भाजपा नेताओं में पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार भी खड़े होंगे. यूपी में जदयू के साथ समान विचारधारा वाली चार पार्टियां खड़ी हैं. इनमें अजित सिंह का रालोद, शरद पवार की राकांपा, एचडी देवेगौड़ा की जेडीएस और बसपा से अलग हुए आरके चौधरी की एस4 शामिल हैं.

जदयू के प्रधान राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि सपा मित्र पार्टी है. इसके आपसी कलह खत्म हो जाने के बाद जदयू अपना रुख तय करेगा. उन्होंने इस बात की पुष्टि की है कि सपा के दोनों खेमों ने जदयू के साथ तालमेल का प्रस्ताव दिया है. यूपी में बिहार से सटे छह प्रमंडलों में विधानसभा की करीब सवा सौ सीटें हैं. जदयू ने यहां यूपी कैडर के पूर्व आइएएस अधिकारी और वर्तमान में राष्ट्रीय महासचिव सांसद आरसीपी सिंह को प्रभारी नियुक्त किया है. जदयू ने बिहार की शराबबंदी और गवर्नेंस को यहां भी मुद्दा बनाया है.

सामाजिक समीकरण को लेकर भी जदयू यूपी में सजग रहा है. यूपी प्रभारी आरसीपी सिंह के मुताबिक यूपी में हुई नीतीश कुमार की सभाओं में अति पिछड़ी जातियों में सबसे मजबूत पटेल समुदाय और अल्पसंख्यक खास कर युवाओं की मौजूदगी पार्टी के लिए उम्मीद भरा है.  अब तक नोटबंदी को लेकर केंद्र का समर्थन कर रहे नीतीश कुमार ने 23 जनवरी को पार्टी कोर कमेटी की बैठक बुलायी है. अब सबकी नजर इस बैठक पर टिकी है. क्या नोटबंदी पर यूपी में प्रधानमंत्री पर नीतीश कुमार हमला कर सकते हैं, त्यागी ने कहा, जदयू सेकुलर ताकतों की विचारधारा से अलग नहीं होगा.

यूपी के अलावा पंजाब  विधानसभा चुनाव पर भी जदयू की नजर है. प्रकाश पर्व के दौरान पटना आये पंजाब के पूर्व सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नीतीश कुमार को चुनाव प्रचार करने का न्योता दिया है. पार्टी सूत्रों के मुताबिक यदि कैप्टन अमरिंदर सिंह सीटों के तालमेल में जदयू के लिए भी गुंजाइश निकालते हैं, तो राष्ट्रीय अध्यक्ष की हैसियत से नीतीश कुमार पंजाब में भाजपा-अकाली दल गंठबंधन के खिलाफ चुनाव प्रचार के लिए जा सकते हैं.

 

Advertisement

Comments

Advertisement