Advertisement

Economy

  • Sep 14 2017 1:42PM

जानें, जापान की बुलेट ट्रेन में मिलती हैं क्या सुविधाएं

जानें,  जापान की बुलेट ट्रेन में मिलती हैं क्या सुविधाएं

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद दुनिया के सभी देशों ने अपने यातायात साधनों के विकास पर ध्यान देना शुरू किया. अमेरिका, ब्रिटेन व यूरोप के अन्य देश पूरी तरह से औद्योगिक देश बन चुके थे. एशिया महादेश में जापान छोड़कर कोई भी देश ऐसा नहीं था, जो ब्रिटेन और अमेरिका के समकक्ष खड़ा हो. जापान को 'एशियाज फर्स्ट मिरेकल' कहा जाता है. जापान की तरक्की से प्रेरणा लेकर जिन देशों ने कामयाबी की नयी इबारत लिखी. उनमें चीन, दक्षिण कोरिया और सिंगापुर शामिल है. 

जापान में बुलेट ट्रेन की शुरुआत 1964 में हुई. बुलेट ट्रेन के आगमन के साथ ही जापान की अर्थव्यवस्था का तेजी से विकास हुआ. शहरों के बीच यात्रा का समय घटता चला गया और लोगों की आवाजाही बढ़ती गयी. बुलेट को जापान में शिनकेन्सन ट्रेन का नाम से जाना जाता है. तोकाडियो, सान्यो, टोकाऊ, जोस्तु, नगानो और क्युसू जैसे शहरों तक बुलेट ट्रेन की सुविधा है. लेकिन बुलेट ट्रेन का सबसे लोकप्रिय रूट ओसाका से टोक्यो है. यहां से यात्रियों को लगातार बुलेट ट्रेन मिलती रहती है. बुलेट ट्रेन में सफर करने वाले लोग पास बनाना पसंद करते हैं. जापान में बुलेट ट्रेन के लिए तीन तरह के अलग - अलग पास होते हैं. जापान रेल पास, जूनियर ईस्ट पास और क्यूसू रेल पास के जरिये पूरे जापान घूमा जा सकता है. जूनियर ईस्ट पास के साथ आप टोकियो, नगानो और माउंट फूजी में सफर कर सकते हैं. क्यूसू रेल पास में महाद्वीपो की यात्रा के लिए दी जाती है.
 
 
रेल पास यात्रियों का पैसा और समय बचाता है. वहीं बुलेट ट्रेन अपने समय से कभी देर नहीं होती है और यह निश्चित समय अवधि में लगातार चलती रहती है. ट्रेन की घोषणा कई भाषाओं में होती है. ट्रेन में खाने की भी सुविधा है, जहां आप पसंदीदा भोजन कर सकते हैं. हां, ज्यादातर बुलेट ट्रेनों में धूम्रपान प्रतिबंधित है.
 
यात्रा के दौरान ले जाये जाने वाला समान 
पैसेंजर अपने साथ दो लगेज ले जा सकते हैं. जिसका अधिकतम वजन 60 किलोग्राम हो सकता है. रेलवे डिलिवरी सर्विस भी उपलब्ध करवाती है. बुलेट ट्रेन में आप साइकिल ले जा सकते हैं. इसके लिए आपसे अतिरिक्त चार्ज वसूला जायेगा. हालांकि यह साइकिल भारत के साइकिलों की तरह नहीं होगी. बल्कि इसे फोल्ड व पैक कर ले जाया जायेगा. यात्री अपने साथ पालतू जानवर भी ले जा सकते हैं. बशर्ते उसका वजन 10 किलोग्राम से कम हो. 
 
 
 
बुलेट ट्रेन में अन्य सुविधाएं 
बुलेट ट्रेन में व्हीलचेयर की भी सुविधा दी गयी है लेकिन दो दिन पहले इसकी एडवांस बुकिंग की जाती है. स्टेशनों में ऐलीवेटर और स्वचालित सीढ़ियों को व्हीलचेयर फ्रेंडली बनाया गया है. 
 
क्यों जरूरी है परिवहन तंत्र का सही होना 
विकसित देशों में सबसे ज्यादा खर्च अधारभूत संरचना पर किया जाता है. अमेरिका में एक कहावत प्रसिद्ध है. 'अमेरिका ने सड़कों को बनाया. सड़कों ने अमेरिका बना दिया'. जापान ने भी अपने यातायात को दुरूस्त किया. चीन के पास दुनिया का सबसे बड़ा हाई स्पीड रेलवे नेटवर्क है. अच्छे परिवहन तंत्र से यात्रा का समय कम लगता है. वहीं माल ढुलाई में लॉजिस्टीक कोस्ट की लागत भी कम हो जाती है. इसका फायदा देश की अर्थव्यवस्था को होता है.  
 
Advertisement

Comments

Advertisement