Advertisement

calcutta

  • Sep 14 2017 9:37AM

BENGAL : ...मैं रिया बोल रही हूं, मुझसे दोस्ती करोगे, यौन सुख समेत प्रति महीने 20-30 हजार होगी कमाई

BENGAL : ...मैं रिया बोल रही हूं, मुझसे दोस्ती करोगे, यौन सुख समेत प्रति महीने 20-30 हजार होगी कमाई
कोलकाता : मोबाइल फोन पर एक युवती का फोन आया. फोन पर उसने कहा कि मैं रिया बोल रही हूं, दोस्ती करना चाहोगे. इतना ही नहीं यौन सुख समेत प्रति महीने 20 से 30 हजार रुपये कमाने की बात भी कही गयी. ऐसी बात सुन झांसे में आये युवक को अपने रुपये गंवाने पड़े. ठगे जाने का अहसास होने पर पुलिस में शिकायत की. जांच के बाद पुलिस ने दो युवतियों समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया. 
 
ऑल इंडिया फ्रेंडशिप क्लब के नाम गोरखधंधा :
 
पुलिस ने बताया कि ऑल इंडिया फ्रेंडशिप क्लब के नाम पर आरोपी गोरखधंधा चला रहे थे. गत 13 सितंबर को बड़ाबाजार इलाके के रहनेवाले राम पुकुर मंडल उर्फ करण (26) ने मामले की शिकायत दर्ज करायी थी. शिकायत के अनुसार खुद को रिया कहने वाली एक युवती का उसके पास फोन आया था. फोन पर उसने दोस्ती और हर तरह के यौन सुख देने की बात कही. 
 
कुछ दिनों बाद पीड़ित ने उसी नंबर पर फोन किया, तब उसे क्लब में मेंबरशिप के लिए 1,100 रुपये रजिस्ट्रेशन फी देने की बात कही गयी. यह राशि मोबाइल वॉलेट या बैंक डिपोजिट के जरिये देने को कहा गया. इतना ही नहीं क्लब का मेंबर होने पर क्लब की ओर से महिलाओं से डेटिंग के लिए रोजाना उसे फोन आयेंगे और वह प्रतिदिन 20 से 30 हजार रुपये कमा सकता है. 
 
झांसे में आने के बाद पीड़ित ने उन्हें 1,100 रुपये दे दिये. इसके बाद भी जब कोई फोन नहीं आया तो राम पुकुर ने उसी नंबर पर दोबारा फोन किया. इस बार उससे कहा गया कि उसे लाइफ टाइम मेंबरशिप का चार्ज देना पड़ेगा और उसे करीब 10,500 रुपये देने पड़ेंगे. खुद को ठगे जाने की बात जान कर राम पुकुर ने पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज करायी. 
 
दोस्ती की चाहत में युवक ने गंवाये अपने रुपये 
 
मामले में दो युवती सहित तीन गिरफ्तार
 
बांसद्रोणी में खोला गया था ऑल इंडिया फ्रेंडशिप क्लब का कार्यालय 
 
जांच के बाद पुलिस ने बांसद्रोणी के निवासी सुभाष गुच्छायत उर्फ रिक (25), रिजेंट पार्क इलाके की रहने वाली चंद्राणी कंसारी उर्फ मांपी (23) और दक्षिण 24 परगना जिला के सोनारपुर की निवासी राखी बसाक (29) को गिरफ्तार किया. आॅल इंडिया फ्रेंडशिप क्लब का कार्यालय बांसद्रोणी में खोला गया था. सुभाष और चंद्राणी मूल आरोपी बताये गये हैं, जबकि राखी उनके पास टेलीफोन ऑपरेटर का काम करती थी.
 

Advertisement

Comments