prabhatkhabar
सक्सेस सीढ़ी
आप लोगों को स्वीकारें वे आपको स्वीकार करेंगे
By Prabhat Khabar | Publish Date: Jul 26 2013 2:56AM | Updated Date: Jul 26 2013 2:56AM
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • Big font Small font
clip

 ।।दक्षा वैदकर।।
बचपन से मिलनेवाली जानकारियां ही हमारे विचार बनाती हैं और वो सारे विचार ही हमारा व्यक्तित्व बनाते हैं. क्योंकि हर व्यक्ति अलग-अलग माहौल में पैदा होता है, अलग परिस्थितियों में पलता है, अलग तरह की कठिनाइयां उसकी जिंदगी में आती हैं, अलग तरह के लोग उसके आसपास होते हैं, इसलिए उसके विचार भी अलग बनते हैं. किसी भी इनसान से उम्मीद करना कि उसके और मेरे विचार एक जैसे होने चाहिए, बेवकूफी है. आपके कुछ विचार आपस में मिल सकते हैं, लेकिन सभी विचार मिलना नामुमकिन है. इसलिए रिश्ता चाहे जो भी हो. पति-पत्नी का हो, बॉस-कर्मचारी का हो या सास-बहू का हो. आपस में विचार कभी नहीं मिलेंगे.

सोचनेवाली बात है कि जब एक ही परिवार के दो सदस्यों, उदाहरण के तौर पर मां-बेटी के विचार, आदतें आपस में नहीं मिलतीं, तो हम दूसरे घर की बेटी को कैसे अपने परिवार में ढलने को कहते हैं? कई बार हम देखते हैं कि बेटी देर से सो कर उठती है, खाना अलग तरह से बनाती है, टेबल अलग तरह से सजाती है, गुस्सा करती है, कपड़े बिखेर कर रखती है. मां उस पर चिल्लाती जरूर है, लेकिन वह बेटी से नफरत नहीं करती है. ऐसा इसलिए, क्योंकि यहां दोनों के बीच का संबंध बहुत गहरा है. वह उसकी सारी कमियों, अंतर को स्वीकार कर लेती है, क्योंकि वह उनकी बेटी है. लेकिन जब ये सारी आदतें बहू की होती हैं, तो वह मां बरदाश्त नहीं कर पाती. वह उम्मीद करती है कि बहू मेरे जैसा ही व्यवहार करे.

आपने पशु प्रेमियों को तो देखा ही होगा. उनके यहां अगर अलग-अलग नस्ल के कुत्ते होते हैं. जब उनसे कभी मिलते हैं, तो वे हमें बताते हैं कि मेरे इस कुत्ते का व्यवहार गुस्सैल है, किसी को भी काट सकता है. इसकी नस्ल ही ऐसी है. मेरा दूसरा कुत्ता फलां नस्ल का है इसलिए वह बहुत शांत है. हम सभी कुत्ताें में अंतर होने के बावजूद भी उनसे समान प्रेम करते हैं, उन्हें स्वीकारते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि कुत्ता भी हमें स्वीकारता है. इस उदाहरण से सीखनेवाली बात सिर्फ इतनी है कि इनसान भी अलग-अलग प्रकार के होंगे ही, लेकिन अगर उनमें से एक भी इनसान सामनेवाले को स्वीकारता है, तो दूसरा भी उसे स्वीकारने लगता है. 

बात पते कीः
-हर व्यक्ति के संस्कार, उसकी परवरिश अलग तरह से होती है. सही-गलत को लेकर उसकी परिभाषा अलग होती है. उस इनसान को वैसा ही स्वीकारें.

-कोई बच्चा हमें क्यों प्यारा लगता है? क्यों आकर्षित करता है? ऐसा इसलिए क्योंकि वह पूरी तरह स्वीकार करता है, बिना किसी दुर्भावना के.

blog comments powered by Disqus
100 दिन पर बोले मोदी,जो कदम उठाये उसके परिणाम दिख रहे हैंरायबरेली में सोनिया ने मोदी सरकार पर साधा निशानाइमरान खान और कादरी को आतंकवाद रोधी कानून के तहत मामला दर्ज, हो सकती है गिरफ्तारीसेक्सेक्स रिकार्ड स्तर पर,निफ्टी 8,000 अंक के पारप्रधानमंत्री ने जापानी उद्योगपतियों को किया आमंत्रित,तेजी से मंजूरी का वादाहवाई यात्रा के लिए ऑफरों की धूम, स्पाइसजेट की टिकट अब 499 रुपये मेंममता-विमल की मुलाकात की अटकलें तेजजूनियर बच्चन की टीम ने जीता प्रो कबड्डी का खिताबअमित शाह के इशारे पर काम कर रहे हैं नजीब जंग:मनीष सिसोदियापाक पर भड़के गृह मंत्री,सीजफायर के जवाब में दिया फायरिंग का निर्देशआज से दो दिवसीय जम्मू दौरे पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जीडीए 100 से बढ़ कर 107 प्रतिशत होगाशाह टटोलेंगे केरल की राजनीतिक नब्जक्या होगा नवाज शरीफ सरकार काबोमन ईरानी भी हैं अंडरवर्ल्ड के निशाने पर!हवाई यात्रा के लिए ऑफरों की धूम, स्पाइसजेट की टिकट अब 499 रुपये में

झारखंड के हालात: अपराधियों ने पिता से दुश्मनी का बदला नाबालिग बेटी से लिया गैंगरेप के बाद कर दी बच्ची की हत्या

गुमला: सदर थाना क्षेत्र के चरकाटांगर में एक किसान की 12 वर्षीया बेटी की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गयी. शनिवार को चार- पांच अपराधियों ने बच्ची को अगवा किया. सामूहिक दुष्कर्म के बाद रविवार की रात उसकी हत्या कर दी.
हर शहर में शादी घर बनवायेगी सरकारआदिवासियों को साजिश के तहत नक्सली कहा जाता है, पता नहीं शायद हम भी किसी दिन बंदूक ढोते नजर आयेंगयी थी लाखों के गहने लेकर, लौटी खाली हाथ10 हजार कार्यकर्ताओं से रू-ब-रू होंगे शाहतारा शाहदेव प्रकरण:रकीबुल के मकान से 30 फाइलें और 36 सीम कार्ड बरामद

ममता तक पहुंची जांच की आंच

कोलकाता: सारधा चिटफंड घोटाले की जांच का दायरा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तक पहुंचता दिख रहा है. प्राप्त जानकारी के अनुसार, सारधा को रेलवे से लाभ दिलाने के लिए कुछ लोगों की विशेष भूमिका रही है और तब ममता बनर्जी रेल मंत्री थीं.
सारधा घोटाला: ममता के रेल मंत्री रहते रेलवे व सारधा के बीच हुआ था समझौताआज खत्म हो रहा टैक्सी संगठनों का अल्टीमेटम, तीन को टैक्सी हड़तालकर्मियों के अटेंडेंस की अब मिलेगी ऑनलाइन जानकारीचार दिवसीय उत्तर बंगाल दौरे पर आयी सीएम ममताममता-विमल की मुलाकात की अटकलें तेज

एक बार फिर बनीं मायावती बसपा की निर्विरोध अध्यक्ष

बसपा द्वारा यहां आयोजित केंद्रीय कार्यकारिणी समिति तथा राज्य स्तरीय वरिष्ठ पदाधिकारियों की बैठक में उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती को एक बार फिर सर्वसम्मति से पार्टी का अध्यक्ष चुन लिया गया
अखिलेश को संकट में डाल रहे दंगेसरकार का इकबाल बुलंद करने में जुटे अखिलेश यादवउत्तर प्रदेश: बिन बिजली बेहाल हुई जिंदगीयूपी:दहेज के लिए महिला को जिंदा जलाया20 साल पुराना 'चर्च' बन गया मंदिर!