prabhatkhabar
देश
बाडमेर में त्रिकोणीय संघर्ष की स्थिति, चुनावी मुकाबला हुआ रोचक
By Prabhat Khabar | Publish Date: Apr 4 2014 10:56AM | Updated Date: Apr 4 2014 10:56AM
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • Big font Small font
clip

बाडमेर : ससंदीय चुनावों में सरहदी बाडमेर लोकसभा सीट पर यह संभवत: पहला मौका होगा जब इस सीट पर चुनावी दंगल भाजपा बनाम कांग्रेस होने के बजाय भाजपा बनाम भाजपा और कांग्रेस बनाम कांग्रेस हो गया है. ऐसे समय में जब चुनावी समर अपने चरम पर है, दोनों प्रमुख दल एक-दूसरे को चुनौती देने के बजाय, अपने परंपरागत वोट बैंक को बचाने की जुगत में लगे हुए हैं.

पाला बदल कर कांग्रेसी से भाजपाई बने सोनाराम चौधरी और भाजपा से निष्कासित नेता जसवंत सिंह ने बाडमेर लोकसभा सीट पर चुनावी मुकाबले को रोचक बना दिया है. बाडमेर लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने मौजूदा सांसद हरीश चौधरी को एक बार फिर से चुनाव मैदान में उतारा है. वहीं, भाजपा ने कांग्रेस से टिकट न मिलने के बाद पार्टी छोडकर कुछ ही दिन पहले भाजपा में शामिल हुए सोनाराम चौधरी को अपना उम्मीदवार बनाया है.

भाजपा उम्मीदवार चौधरी इस सीट से कांग्रेस के टिकट पर चार बार लोकसभा चुनाव लड़कर तीन बार संसद में बाडमेर का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. दो बार विधानसभा चुनाव लड़कर एक बार राज्य विधानसभा में बाडमेर की बायतु विधानसभा सीट का भी प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.

हालिया विधानसभा चुनावों में भाजपा के कैलाश चौधरी ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडे सोनाराम को करीब 15 हजार मतों से हराया था. शिकस्त के बाद सोनाराम चौधरी ने कांग्रेस से लोकसभा का टिकट मांगा लेकिन पार्टी की ओर से हरीश चौधरी को मौका देने पर सोनाराम दलबदल कर कांग्रेसी से भाजपाई बन गए. बाडमेर संसदीय सीट पर कुछ ऐसी ही स्थिति वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह की भी है. भाजपा से टिकट नहीं मिलने के कारण इसे स्वामिभान की लडाई बताकर सिंह निर्दलीय ही चुनाव मैदान में उतर पडे हैं. बगावत के बाद उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है.

हालांकि, जसवंत सिंह इस सीट से पहली बार चुनाव लड रहे हैं, लेकिन उनके पुत्र और वर्तमान में बाडमेर की शिव विधानसभा सीट के मौजूदा विधायक मानवेंद्र सिंह इस सीट से तीन बार 1998, 2004 और 2009 में भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड चुके हैं.

वर्ष 1998 में मानवेन्द्र सिंह ने कांग्रेस के सोनाराम चौधरी से शिकस्त खाई और 2004 के चुनावों में सोनाराम चौधरी को करारी शिकस्त दी. मानवेन्द्र 2009 में कांग्रेस के हरीश चौधरी से चुनाव हार गए थे. बाडमेर लोकसभा सीट पर करीब 17 लाख मतदाताओं में से 3.5 लाख जाट, 2.5 लाख राजपूत, 4 लाख एससी-एसटी, 3 लाख अल्पसंख्‍यक और शेष अन्य जातियों के मतदाता हैं. विश्लेषकों का मानना है कि सोनाराम चौधरी के कारण कांग्रेसी वोट बैंक में बिखराव आ सकता है. चौधरी भी 50 फीसदी कांग्रेसी वोट मिलने का दावा कर रहे हैं.

कांग्रेस की तरह कुछ ऐसी ही स्थिति भाजपा की है, जिसे पार्टी के पंरपरागत वोट बैंक के जसवंत सिंह के पक्ष में लामबंद होने का डर सता रहा है. इसमें राजपूत और ओबीसी चारण, पुरोहित, प्रजापत जैसी जातियां शामिल हैं. सिर्फ यही नहीं भाजपा कार्यकर्ताओं का एक बडा वर्ग भी जसवंत सिंह के पक्ष में खुलकर खड़ा है. राजनीतिक गलियारों में चल रहीं चर्चा के अनुसार कर्नल सोनाराम चौधरी को भाजपा में लाने और उन्‍हें टिकट दिलवाने में वसुंधरा राजे की भूमिका रही है. राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार सोनाराम अगर इस सीट पर चुनाव नहीं जीत पाते हैं तो इससे न सिर्फ राजस्थान में भाजपा के मिशन-25 को झटका लगेगा, वरन पार्टी में वसुंधरा के निर्णय पर भी सवाल उठेंगे.

blog comments powered by Disqus
यूपी-बिहार को लेकर अब भाजपा नेता विजय गोयल का विवादास्पद बयानसदन की गरिमा का खयाल रखें सांसद:नायडूशेयर बाजार में जोरदार गिरावट से प्रमुख सूचकांक 3 सप्ताह के निम्‍न गिरावट परमालिन भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढकर 63 हुई, परिजनों को 5 लाख वित्‍तीय सहायता की घोषणापहली तिमाही में डीएलएफ का कर्ज 19,000 करोड से अधिकसेक्‍स संबंध बनाते समय इन बातों का रखे ख्‍यालनरसिंह राव को पसंद नहीं करतीं थीं सोनिया गांधीफेसबुक भारत में और अधिक निवेश करना चाहती है, एचपी और सिस्‍को भी तैयारराजकोषीय घाटा को कम करना सरकार के लिए चुनौतिभुज के करीब वायुसेना विमान दुर्घटनाग्रस्त,पायलट सुरक्षितताइवान में गैस धमाके में 24 लोगों की मौत, 271 घायलजम्मू में गलती से चली गोली के कारण बीएसएफ अधिकारी की मौत, एक अन्य घायलमुजफ्फरनगर: झूठी शान की खातिर भाई ने ली बहन की जानसैमसंग ने पेश किये तीन स्मार्टफोन, कीमत दस हजार से कमबाजार में एलजी का क्रोमबेस्ड कंम्पयूटर, जानिये क्या हैं फीचर्सअसम:बम बनाते हुये मारे गये उल्फा के तीन उग्रवादी

विस में हंगामा, विधायक ज्योति को मार्शल की मदद से बाहर किया गया

बिहार विधान परिषद् में आज निर्दलीय विधायक ज्योति रश्मि ने काफी हंगामा किया. उनके हंगामे को देखते हुए उन्हें मार्शल की मदद से बाहर करवाना पड़ा. वहीं आज भाजपा सदस्यों के हंगामे के कारण सभापति अवधेश नारायण सिंह को परिषद की कार्यवाही भोजनावकाश तक के लिए स्थगित करनी पडी.
खुशखबरी : गया की धरती उगलेगी सोना!भाजपा से नभय कांग्रेस से अजीतमहिलाओं के लिए बढ़ेंगे अवसर : सीएमकृषि विभाग में 10 हजार से अधिक नियुक्तियांसूचना छिपाने पर तीन सांसदों को हाइकोर्ट का नोटिस

गुमला : माओवादियों ने अपने दो पूर्व साथियों को मार गिराया

गुमला : घाघरा के बरांग गांव में गुरुवार को दिन के 12 बजे भाकपा माओवादियों ने अपने दो पूर्व साथियों को मार गिराया. इनके नाम हैं : आदर पोखराटोली के रोहित उरांव (22) व राजमन उरांव (25). माओवादियों ने दावा किया है कि मारे गये दोनों युवक जेजेएमपी के सदस्य थे और एक मार्च को बरांग में एक ही परिवार के चार सदस्यों की हत्या में शामिल थे. दोनों फिर हमला करने बरांग आये थे.
स्थानीयता नीति पर नहीं बनी सहमतिभाजपा ने काम आसान किया: बाबूलाल मरांडीस्थानीयता नीति को लेकर आज झारखंड बंदआइआइएम के अधिकारी पर लगा प्रताड़ना का आरोपतीन हार्डकोर नक्सली कमांडर गिरफ्तार

सारधा घोटाला: सुदीप्त सेन और सांसद कुणाल घोष के आवास की तलाशी

कोलकाता/नयी दिल्ली. सारधा समेत कुछ अन्य चिटफंड कंपनियों के करोड़ों रुपये के घोटाले की जांच को गति देते हुए गुरुवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने पश्चिम बंगाल और ओड़िशा में 30 ठिकानों पर छापेमारी की.
दूसरे दिन भी सीबीआइ की सारधा चिटफंड मामले में छापेमारीचितपुर कांड के खिलाफ कांग्रेस की रैलीसेट टॉप बॉक्स बदले बिना ऑपरेटर बदल सकेंगेमेट्रो में फिर धुआं से हड़कंपकेरी को तोहफा है बीमा विधेयक : माकपा

फेसबुक पर की सांप्रदायिक टिप्पणी, कार्रवाई की मांग के बाद बरेली में तनाव का माहौल

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक जहां आम लोगों से जुड़ने का जरिया बन चुका है, वहीं कई बार यह उपद्रवियों के मनसूबों को पूरा करने का भी साधन बन जाता है. फेसबुक पर धार्मिक भावनाएं भड़काने वाली टिप्पणी के बाद अब वहां तनाव फैल गया है.
सहारनपुर मामला: कर्फ्यू में आठ घंटे की ढीलसहारनपुर में कर्फ्यू में छह घंटे की ढील92 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार, आरोपी को दस साल की सजामेरठ अग्निकांड: सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार को दिया आदेश, मृतकों के परिजनों को दें पांच लाखझूठी शान के लिए भाई ने की बहन की हत्या