prabhatkhabar
देश
बाडमेर में त्रिकोणीय संघर्ष की स्थिति, चुनावी मुकाबला हुआ रोचक
By Prabhat Khabar | Publish Date: Apr 4 2014 10:56AM | Updated Date: Apr 4 2014 10:56AM
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • Big font Small font
clip

बाडमेर : ससंदीय चुनावों में सरहदी बाडमेर लोकसभा सीट पर यह संभवत: पहला मौका होगा जब इस सीट पर चुनावी दंगल भाजपा बनाम कांग्रेस होने के बजाय भाजपा बनाम भाजपा और कांग्रेस बनाम कांग्रेस हो गया है. ऐसे समय में जब चुनावी समर अपने चरम पर है, दोनों प्रमुख दल एक-दूसरे को चुनौती देने के बजाय, अपने परंपरागत वोट बैंक को बचाने की जुगत में लगे हुए हैं.

पाला बदल कर कांग्रेसी से भाजपाई बने सोनाराम चौधरी और भाजपा से निष्कासित नेता जसवंत सिंह ने बाडमेर लोकसभा सीट पर चुनावी मुकाबले को रोचक बना दिया है. बाडमेर लोकसभा सीट पर कांग्रेस ने मौजूदा सांसद हरीश चौधरी को एक बार फिर से चुनाव मैदान में उतारा है. वहीं, भाजपा ने कांग्रेस से टिकट न मिलने के बाद पार्टी छोडकर कुछ ही दिन पहले भाजपा में शामिल हुए सोनाराम चौधरी को अपना उम्मीदवार बनाया है.

भाजपा उम्मीदवार चौधरी इस सीट से कांग्रेस के टिकट पर चार बार लोकसभा चुनाव लड़कर तीन बार संसद में बाडमेर का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. दो बार विधानसभा चुनाव लड़कर एक बार राज्य विधानसभा में बाडमेर की बायतु विधानसभा सीट का भी प्रतिनिधित्व कर चुके हैं.

हालिया विधानसभा चुनावों में भाजपा के कैलाश चौधरी ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लडे सोनाराम को करीब 15 हजार मतों से हराया था. शिकस्त के बाद सोनाराम चौधरी ने कांग्रेस से लोकसभा का टिकट मांगा लेकिन पार्टी की ओर से हरीश चौधरी को मौका देने पर सोनाराम दलबदल कर कांग्रेसी से भाजपाई बन गए. बाडमेर संसदीय सीट पर कुछ ऐसी ही स्थिति वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह की भी है. भाजपा से टिकट नहीं मिलने के कारण इसे स्वामिभान की लडाई बताकर सिंह निर्दलीय ही चुनाव मैदान में उतर पडे हैं. बगावत के बाद उन्हें छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है.

हालांकि, जसवंत सिंह इस सीट से पहली बार चुनाव लड रहे हैं, लेकिन उनके पुत्र और वर्तमान में बाडमेर की शिव विधानसभा सीट के मौजूदा विधायक मानवेंद्र सिंह इस सीट से तीन बार 1998, 2004 और 2009 में भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड चुके हैं.

वर्ष 1998 में मानवेन्द्र सिंह ने कांग्रेस के सोनाराम चौधरी से शिकस्त खाई और 2004 के चुनावों में सोनाराम चौधरी को करारी शिकस्त दी. मानवेन्द्र 2009 में कांग्रेस के हरीश चौधरी से चुनाव हार गए थे. बाडमेर लोकसभा सीट पर करीब 17 लाख मतदाताओं में से 3.5 लाख जाट, 2.5 लाख राजपूत, 4 लाख एससी-एसटी, 3 लाख अल्पसंख्‍यक और शेष अन्य जातियों के मतदाता हैं. विश्लेषकों का मानना है कि सोनाराम चौधरी के कारण कांग्रेसी वोट बैंक में बिखराव आ सकता है. चौधरी भी 50 फीसदी कांग्रेसी वोट मिलने का दावा कर रहे हैं.

कांग्रेस की तरह कुछ ऐसी ही स्थिति भाजपा की है, जिसे पार्टी के पंरपरागत वोट बैंक के जसवंत सिंह के पक्ष में लामबंद होने का डर सता रहा है. इसमें राजपूत और ओबीसी चारण, पुरोहित, प्रजापत जैसी जातियां शामिल हैं. सिर्फ यही नहीं भाजपा कार्यकर्ताओं का एक बडा वर्ग भी जसवंत सिंह के पक्ष में खुलकर खड़ा है. राजनीतिक गलियारों में चल रहीं चर्चा के अनुसार कर्नल सोनाराम चौधरी को भाजपा में लाने और उन्‍हें टिकट दिलवाने में वसुंधरा राजे की भूमिका रही है. राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार सोनाराम अगर इस सीट पर चुनाव नहीं जीत पाते हैं तो इससे न सिर्फ राजस्थान में भाजपा के मिशन-25 को झटका लगेगा, वरन पार्टी में वसुंधरा के निर्णय पर भी सवाल उठेंगे.

blog comments powered by Disqus
राष्ट्रपति ने 15 खिलाडियों को अर्जुन पुरस्कार से नवाजाअमृतसर:चाचा ने नाबालिक और उसके प्रेमी की गला काटकर हत्या कीस्वास्थ्य मंत्री ने औरत के शरीर को बताया मंदिरतीसरा वनडे:जीत का लय बरकरार रखने उतरेगी टीम इंडियालालू,नीतीश की खुशी ज्यादा दिनों की नहीं:पासवानभारतीयों को विदेश में हिन्दू कहना राष्ट्रीयत्व है:उद्योग मंत्रीआईएसआईएस ने 250 सीरियाई सैनिकों की हत्या का वीडियो किया जारीजोकोविच, सेरेना तीसरे राउंड मेंमहाराष्ट्र में कर मुक्त हुई 'मैरीकॉम'मारुति ने अस्थाई कर्मचारियों की नियुक्ति के कानून को लचीला बनाने की मांग कीमेरठ:सामूहिक बलात्कार की दो घटनाएं,एक मामले में गिरफ्तारी दूसरे में आरोपी फरारकेंद्र को अश्लील वेबसाइट्स अवरुद्ध करने का रास्ता खोजना होगा: उच्चतम न्यायालयसुप्रीम कोर्ट ने ग्वालियर हाई कोर्ट के आरोपी जज को भेजा नोटिसआईएम के आतंकियों का एक सहयोगी गिरफ्तारबोले इरफान,मैं जल्द ही भारतीय टीम के लिये खेलूंगामल्लिका सहरावत ने कहा,महिलाओं के खिलाफ भेदभाव समाप्त किया जाये

लालू,नीतीश की खुशी ज्यादा दिनों की नहीं:पासवान

उपचुनावों में जीत के बाद राजद, जद यू और कांग्रेस के ‘‘धर्मनिरपेक्ष गठबंधन के प्रयोग’’ को बिहार से बाहर भी ले जाने की योजना के साथ लोजपा नेता रामविलास पासवान ने आज कहा कि उनकी खुशी ‘‘कम समय’’ ही टिकेगी क्योंकि वे ‘‘संयोग से’’ जीत गए.
झुंझलाकर बिहारी सीएम ने कहा 'हम आपके वोट से नहीं जीतते'सात लाख 77 हजार राशन कार्ड फर्जी, बंट जाते तो हर माह सरकार को लगती सवा तीन करोड़ की चपतसाधु यादव से 10 सितंबर के बीच हो सकती है पूछताछविस उपचुनाव की समीक्षा में जुटी भाजपा, जिलाध्यक्षों ने गिनाये हार के कारणजलाशय योजनाओं को शीघ्र करें पूरा : मुख्यमंत्री

सारधा प्रकरण ने उतारा तृणमूल सरकार का मुखौटा: वृंदा करात

पश्चिम बंगाल में गुंडाराज चल रहा है. शासक दल की मदद से गुंडे लोग अपना दबदबा कायम कर रहे हैं. सरकार ने गुंडों को विपक्षियों पर आक्रमण करने का लाइसेंस दे रखा है और पुलिस उन्हें बचाने की कोशिश कर रही है. तृणमूल के खिलाफ इन कड़ी भाषाओं का प्रयोग माकपा के पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात ने की है.
सारधा चिटफंड घोटाला: मदन मित्र के पूर्व सहायक से पूछताछबाढ़ में पांच करोड़ से अधिक का नुकसानबेमियादी टैक्सी हड़ताल की चेतावनीसारधा घोटाला: असम के दो कांग्रेसी विधायकों के परिसरों पर सीबीआई के छापेसरगरमी बढ़ी: ममता के दौरे से पहाड़ का राजनीतिक पारा गरम

सरकार का इकबाल बुलंद करने में जुटे अखिलेश यादव

यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपनी सरकार के इकबाल को कायम करने के लिए यूपी के हर मंड़ल का दौरा कर जनता से सीधे संवाद करेंगे. जिलों में सरकारी योजना की हकीकत से रूबरू होंगे. अगले माह सूबे के सभी मंड़लों का दौरा कर कुछ जिलों में औचक्क निरीक्षण कर मुख्यमंत्री यह सिलसिला शुरू करेंगे.
उत्तर प्रदेश: बिन बिजली बेहाल हुई जिंदगीयूपी:दहेज के लिए महिला को जिंदा जलाया20 साल पुराना 'चर्च' बन गया मंदिर!यूपी:थानेदार ने थाना बुलाकर महिला से किया बलात्‍कारआरोपियों को बनाया जा रहा है राज्यपाल:आजम खां