prabhatkhabar
देश
बाडमेर से निर्दलीय पर्चा दाखिल करेंगे:जसवंत
By Prabhat Khabar | Publish Date: Mar 23 2014 12:00AM | Updated Date: Mar 23 2014 6:40PM
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • |
  • Big font Small font
clip

जोधपुर : लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं मिलने से आहत पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह ने आज कहा कि उन्होंने बाडमेर से निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में चुनाव लडने का निर्णय किया है और कल अपना पर्चा दाखिल करेंगे.

सिंह हालांकि अभी पार्टी नहीं छोड रहे हैं. उन्होंने कहा कि वह अगला कदम उठाने से पूर्व अपने सहयोगियों से विचार विमर्श करेंगे. उन्होंने कहा, हां, मैं कल बाडमेर से नामांकन पत्र दाखिल कर रहा हूं. निर्दलीय या नहीं, यह पार्टी के रुख पर निर्भर करेगा. उनसे पूछा गया था कि टिकट नहीं मिलने के बावजूद क्या वह चुनाव लडेंगे.

भाजपा के 76 वर्षीय नेता अभी दार्जिलिंग सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं और इस बार बाडमेर से कांग्रेस से हाल ही में भाजपा में शामिल हुए कर्नल सोनाराम को पार्टी का टिकट मिलने से जसवंत काफी आहत है. भाजपा को 48 घंटे की समयसीमा दिये जाने के मद्देनजर अपने इस्तीफे के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा, इस बारे में मैं बाडमेर में अपने सहयोगियों एवं अन्य लोगों के साथ विचार विमर्श करुंगा और फिर कोई निर्णय करुंगा. उन्होंने कहा कि पार्टी छोड़ने के संबंध में 48 घंटे की समयसीमा तय किये जाने के बाद से भाजपा से किसी ने भी उनसे सम्पर्क करने की कोशिश नहीं की है.

जसवंत सिंह ने कहा, अगर मैं अपने घर और पार्टी के बारे में भावुक नहीं हूं तब मैं किस बारे में भावुक होउंगा... अगर पार्टी ने मुझसे बात करने का निर्णय किया है तब वे मेरा नंबर जानते हैं और यह भी कि मुझ तक कैसे पहुंचा जा सकता है. जब से मैं यहां हूं, किसी ने भी मुझसे सम्पर्क करने का प्रयास नहीं किया.

उनकी (जसवंत सिंह) सेवाओं का उपयुक्त ढंग से उपयोग करने की भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह की टिप्पणी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, मैं फर्नीचर का टुकडा नहीं हूं. समावेश करने के विशेषण का विकल्प अपने आप में मानसिकता को प्रदर्शित करता है. आप सिद्धांतों का समावेश नहीं कर सकते और यह अपमानजनक है.

चुनाव के बाद भरपायी करने की पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह की टिप्पणी की कडी आलोचना करते हुए सिंह ने कहा, मैं इस विचार को खारिज करता हूं और मैं इसके पीछे की मानसिकता को भी खारिज करता हूं. ऐसा अनुमान है कि वे सरकार बना लेंगे और मुझे कोई स्थान दे देंगे. वे इसे अपने पास रख सकते हैं.

जसवंत सिंह ने कहा, इन शब्दों की श्रृंखला के पीछे के विचार अहंकार और असम्मान से परिपूर्ण हैं. राजस्थान में जसवंत सिंह समर्थकों की ओर से नरेन्द्र मोदी का पोस्टर फाडे जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, अगर पोस्टर फाडे गए हैं, तब मैं समझता हूं कि यह प्रदर्शिता करता है कि क्या हो रहा है.

जसवंत सिंह ने कहा, अपने पूरे राजनीतिक जीवन में मैंने परिस्थितियों के अनुरुप पार्टी की भलाई के लिए काम किया. मैंने सहूलियत की राजनीति को कभी नहीं अपनाया. भाजपा के वरिष्ठ नेता ने उन्हें टिकट नहीं दिये जाने के लिए कल पार्टी नेतृत्व पर निशाना साधते हुए कहा था कि असली और नकली भाजपा में फर्क करने का समय आ गया है.

उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि पार्टी को बाहरी लोगों ने अपने हाथों में ले लिया है. जसवंज अपने गृह क्षेत्र बाडमेर से पार्टी टिकट की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि यह उनका अंतिम चुनाव होगा. सिंह अटल बिहार वाजपेयी के नेतृत्व वाली राजग सरकार में वरिष्ठ मंत्री रहे और उन्होंने विदेश, रक्षा और वित्त मंत्री के रुप में काम किया. इस बीच जसवंत के पुत्र और विधायक मानवेन्द्र सिंह ने अपने पिता के पदचिन्हों पर चलने का संकेत दिया है.

उनके अनुभवों का करेंगे सदुपयोग

जसवंत सिंह को शांत करने के प्रयास में भाजपा ने शनिवार को कहा कि वह वरिष्ठ नेता हैं. उनकी सेवाओं का पार्टी उचित उपयोग करेगी. जसवंत के पार्टी छोड़ने संबंधी खबरों पर भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने कहा कि उनकी प्रतिष्ठा को टिकट के आधार पर नहीं आंका जाना चाहिए. वह पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं. हम उनका सम्मान करते हैं. हम उनकी सेवाओं और अनुभव का सदुपयोग करेंगे. वर्तमान में दार्जिलिंग से सांसद जसवंत सिंह ने इस बार अपने गृह नगर बाड़मेर से उम्मीदवार बनाये जाने की इच्छा व्यक्त की थी. जसवंत पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के करीबी माने जाते हैं.

..और रो पड़े

अपनी अनदेखी से जसवंत सिंह इतने आहत हैं कि एक इंटरव्यू में अपने जज्बात पर काबू नहीं रख पाये और भावुक हो उठे. शनिवार को न्यूज चैनल एनडीटीवी को साथ इंटरव्यू के दौरान बोलते-बोलते उनका गला भर आया, वह चुप हो गये और आंसुओं को छलकने से रोकने लगे. हुआ यों कि 76 वर्षीय जसवंत से जब नकली लोगों वाले बयान पर सवाल पूछा, जवाब में जसवंत सिंह ने कहा, आपने फरमाया कि मैं वापस आ गया हूं. घर नहीं आऊंगा, तो कहां जाऊंगा .सोच कर तकलीफ होती है. इतना कहते-कहते उनकी आवाज भर्रा गयी.

बाद में खुद को संभाल कर उन्होंने बात पूरी की. उन्होंने कहा, असली बीजेपी-नकली बीजेपी..ये हमें सोच कर निर्णय करना पड़ेगा. यह ऐसी परीक्षा है, बार-बार लोगों को नहीं उलझना चाहिए. अभी जो कुछ हो रहा है, वास्तव में यही अंतर है असली और नकली बीजेपी के बीच.

blog comments powered by Disqus
पुणे में भूस्खलन से प्रभावित क्षेत्र का दौरा करेंगे गृह मंत्रीअमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी भारत पहुंचे,कल मिलेंगे मोदी सेमौजूदा वित्‍त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 6.5 प्रतिशत रह सकती है : प्रणब सेनअमेरिकी व्यापार मंत्री ने WTO में भारत के रुख पर जतायी निराशायूपीएससी सीसेट मुद्दे पर विपक्ष का हंगामा, सरकार ने दिया समाधान का आश्वासनसुपरटेक खरीददारों के पैसे ब्‍याज के साथ लौटाये: सुप्रीम कोर्टहार्ट की बीमारी से परेशान 100 बच्‍चों का इलाज करायेंगे सलमान17 साल का प्रेम और 380 करोड़ का तलाकबादल ने मुलायम को फोन कर सहारनपुर में सिखों की सुरक्षा का मुद्दा उठायानेता प्रतिपक्ष पर अगले चार दिनों में फैसला : सुमित्रा महाजनशिनचियांग में आतंकी हमला: 32 की मौत, कई घायलसीसैट मामले पर सरकार का यूटर्न, समय सीमा देने से किया इनकारकुंभकोणम स्कूल हादसा : प्रिंसिपल सहित 10 दोषी करारबिकनी पहनने पर रोक नहीं लगायेगी सरकार : पार्रिकरघरेलू बाजार में आमेजन करेगी 2 अरब डालर का निवेश, मौजूदा बाजार 6,000 करोड के करीबसेंसेक्स 96 अंक चढ़कर फिर 26000 के पार, निफ्टी 7791 पर

विधानसभा उपचुनाव : राजद-जदयू के प्रत्याशी तय, घोषणा आज

बिहार विधानसभा की 10 सीटों पर होनेवाले उपचुनाव में तीन गंठबंधनों में मुकाबला होगा. नीतीश कुमार व लालू प्रसाद के बीच हुई बातचीत में जदयू, राजद और कांग्रेस के महागंठबंधन को अंतिम रूप दिया गया. जदयू व राजद के प्रत्याशी भी तय हो गये हैं. उधर, एकजुट हुए तीनों वाम दलों (भाकपा, माकपा और भाकपा माले) ने साझा प्रत्याशी उतारने का फैसला किया है.
गया में बैंक ऑफ बडौदा से एक लाख 44 हजार की लूटपत्नी व मासूम बेटी को सिगरेट से दागता था पितागंगा में चार छात्र डूबे, मौतविधायक पर रंगदारी मांगने का मामला दर्जमहिला को दिनदहाड़े उठाने का प्रयास

मालदा में बेटी के सामने मां से किया दुष्कर्म

मालदा: सात साल की बेटी का हाथ-पैर व मुंह बांध कर उसके सामने उसी की मां पर पाशवीय अत्याचार चलाकर दुष्कर्म किया गया. इस घटना ओलड मालदा थाना के साहापुर ग्राम पंचायत अंतर्गत एक नंबर विमल दास कॉलोनी इलाके में तनाव का माहौल बना हुआ है.
मुख्यमंत्री का नाम लेकर पुलिस बूथ में करने लगा शौचबंगाल में राजनीतिक हिंसा चरम परसॉल्टलेक : चांदी के बॉल चुनने के लिए उमड़ी भीड़सारधा घोटाला: माकपा ने लिया उत्तर बंगाल विकास मंत्री गौतम देव का नामतापस के समर्थन में सरकार

सहारनपुर में हालात सामान्य,कर्फ्यू में दी गयी ढ़ील

हिंसा प्रभावित सहारनपुर में जिला प्रशासन ने आज कर्फ्यू में ढ़ील दी है. प्रशासन ने आज चार घण्टे के स्थान पर पांच घण्टे की ढ़ील दी है. सहारनपुर की जिलाधिकारी संध्या तिवारी ने बताया कि सहारनपुर में शान्ति को देखते हुए ही कर्फ्यू में ढ़ील का समय बढ़ाया गया है.
ज्‍योति मर्डर केस:पति ने जुर्म कबूला,ड्राइवर के साथ मिलकर की थी हत्‍याइलाहाबाद विश्वविद्यालय के कुलपति एके सिंह ने दिया इस्तीफायूपी:सहारनपुर हिंसा प्रभावित शहर में कर्फ्यू में छूट,ईद की नमाज अदामोहनलालगंज गैंगरेप:अखिलेश ने की सीबीआई जांच की सिफारिशमोहनलालगंज मामला:फॉरेंसिक रिपोर्ट में खुली पुलिस की पोल,महिला से हुआ था गैंगरेप